अधिकारियों व अन्य में राष्ट्रवाद की भावना से समृद्ध भारत के निर्माण में मदद मिल सकती है :मंत्री

Kaushal Kishore
मंत्री ने कहा कि राष्ट्रवाद की भावना से चीजें बेहतर हो सकती हैं, अधिकारी अधिक तन्मयता से काम कर सकते हैं, यदि उनके अंदर यह भावना हो कि ‘‘वे अपने देश एवं उसकी समृद्धि के लिए यह कर रहे हैं।

नयी दिल्ली| केंद्रीय मंत्री कौशल किशोर ने बृहस्पतिवार को कहा कि सरकारी अधिकारियों एवं अन्य नागरिकों में ‘‘राष्ट्रवाद की भावना’’ पनपने से देश को अपने आर्थिक एवं अन्य लक्ष्यों को समय से हासिल करने में मदद मिल सकती है एवं इस तरह समृद्ध भारत का निर्माण होगा।

उन्होंने पीएचडी वाणिज्य एवं उद्योग मंडल द्वारा यहां कारोबार सुगमता पर आयोयित एक कार्यक्रम में कहा कि स्मार्ट सिटी परियोजना पर ‘क्रियान्वयन में देरी’ ‘अधिकारियों की धीमी गति’ की वजह से हुई।

केंद्रीय आवास एवं शहरी मामले के राज्य मंत्री ने कहा, ‘‘...हालांकि एक चीज है, जिसे मैं यहां जोड़ना चाहता हूं। कारोबारी गतिविधियों की तीव्र गति एवं कारोबार करने में कम से कम रूकावट का संबंध राष्ट्रवाद की भावना से भी जुड़ा है।’’

मंत्री ने कहा कि राष्ट्रवाद की भावना से चीजें बेहतर हो सकती हैं, अधिकारी अधिक तन्मयता से काम कर सकते हैं, यदि उनके अंदर यह भावना हो कि ‘‘वे अपने देश एवं उसकी समृद्धि के लिए यह कर रहे हैं।

Disclaimer:प्रभासाक्षी ने इस ख़बर को संपादित नहीं किया है। यह ख़बर पीटीआई-भाषा की फीड से प्रकाशित की गयी है।


नोट:कोरोना वायरस से भारत की लड़ाई में हम पूर्ण रूप से सहभागी हैं। इस कठिन समय में अपनी जिम्मेदारी का पूर्णतः पालन करते हुए हमारा हरसंभव प्रयास है कि तथ्यों पर आधारित खबरें ही प्रकाशित हों। हम स्व-अनुशासन में भी हैं और सरकार की ओर से जारी सभी नियमों का पालन भी हमारी पहली प्राथमिकता है।

अन्य न्यूज़