आंध्र प्रदेश वर्षा: नुकसान का आकलन करने को सात सदस्यीय केंद्रीय दल करेगा राज्य का दौरा

rain
मंत्रालय के आपदा प्रबंधन प्रभाग द्वारा शनिवार को जारी एक आधिकारिक ज्ञापन में टीम को तुरंत राज्य का दौरा करने और नुकसान के साथ ही राहत कार्यों का आकलन करने लिए भी कहा गया है। इस दल में कृषि, वित्त, जल शक्ति, ऊर्जा, सड़क परिवहन एवं राजमार्ग और ग्रामीण विकास मंत्रालयों के अधिकारी शामिल होंगे।
अमरावती। आंध्र प्रदेश में हाल में हुई भारी बारिश और बाढ़ से हुए नुकसान का आकलन करने के लिए सात सदस्यीय केंद्रीय टीम राज्य का दौरा करेगी। अध्ययन के आधार पर गृह मंत्रालय में संयुक्त सचिव राकेश कुमार सिंह की अध्यक्षता वाली अंतर-मंत्रालयीय टीम यह भी सिफारिश करेगी कि क्या राज्य में आपदा को गंभीर प्रकृति का माना जा सकता है। मंत्रालय के आपदा प्रबंधन प्रभाग द्वारा शनिवार को जारी एक आधिकारिक ज्ञापन में टीम को तुरंत राज्य का दौरा करने और नुकसान के साथ ही राहत कार्यों का आकलन करने लिए भी कहा गया है। इस दल में कृषि, वित्त, जल शक्ति, ऊर्जा, सड़क परिवहन एवं राजमार्ग और ग्रामीण विकास मंत्रालयों के अधिकारी शामिल होंगे। 

इसे भी पढ़ें: आंध्र प्रदेश-तेलंगाना में भारी बारिश से 25 लोगों की मौत, PM मोदी ने दिया मदद का भरोसा

आंध्र प्रदेश के मुख्यमंत्री वाई एस जगन मोहन रेड्डी ने पिछले सप्ताह केंद्रीय गृहमंत्री अमित शाह को पत्र लिखकर अनुरोध किया था कि केंद्र इस महीने भारी बारिश और बाढ़ से प्रभावित राज्य को 2,250 करोड़ रुपये का तत्काल अनुदान प्रदान करे। मुख्यमंत्री ने कहा था कि प्रारंभिक अनुमानों के अनुसार, नौ से 13 अक्टूबर तक वर्षा और इसके परिणामस्वरूप बाढ़ के कारण राज्य को 4,450 करोड़ रुपये का नुकसान हुआ है। 

इसे भी पढ़ें: आंध्र प्रदेश में कोरोना के 3,765 नए मामले, संक्रमितों का आंकड़ा आठ लाख के पार

उन्होंने कहा कि हजारों एकड़ क्षेत्र में खड़ी फसलें नष्ट हो गईं, सड़क और बिजली आधारभूत ढांचे को भारी नुकसान हुआ। उन्होंने कहा कि बारिश से संबंधित घटनाओं में 19 लोगों की मौत हुई है। मुख्यमंत्री ने 17 अक्टूबर को लिखे पत्र में कहा था कि युद्धस्तर पर राहत कार्य शुरू करने और सामान्य स्थिति बहाल करने के लिए राज्य को कम से कम 1,000 करोड़ रुपये अग्रिम के रूप जरूरत है।

Disclaimer:प्रभासाक्षी ने इस ख़बर को संपादित नहीं किया है। यह ख़बर पीटीआई-भाषा की फीड से प्रकाशित की गयी है।


नोट:कोरोना वायरस से भारत की लड़ाई में हम पूर्ण रूप से सहभागी हैं। इस कठिन समय में अपनी जिम्मेदारी का पूर्णतः पालन करते हुए हमारा हरसंभव प्रयास है कि तथ्यों पर आधारित खबरें ही प्रकाशित हों। हम स्व-अनुशासन में भी हैं और सरकार की ओर से जारी सभी नियमों का पालन भी हमारी पहली प्राथमिकता है।

अन्य न्यूज़