शरद पवार ने उद्धव ठाकरे से की मुलाकात, राजनीतिक और कोविड-19 स्थिति पर की चर्चा

  •  प्रभासाक्षी न्यूज नेटवर्क
  •  मई 27, 2021   12:18
शरद पवार ने उद्धव ठाकरे से की मुलाकात, राजनीतिक और कोविड-19 स्थिति पर की चर्चा

राकांपा अध्यक्ष शरद पवार ने महाराष्ट्र के मुख्यमंत्री उद्धव ठाकरे से मुलाकात की और राज्य में राजनीतिक स्थिति तथा कोविड-19 स्थिति से निपटने के महा विकास आघाडी सरकार के तरीके पर चर्चा की।

मुंबई। राकांपा अध्यक्ष शरद पवार ने महाराष्ट्र के मुख्यमंत्री उद्धव ठाकरे से मुलाकात की और राज्य में राजनीतिक स्थिति तथा कोविड-19 स्थिति से निपटने के महा विकास आघाडी सरकार के तरीके पर चर्चा की। सूत्रों ने बृहस्पतिवार को बताया कि यह बैठक बुधवार देर शाम को मुंबई में मुख्यमंत्री के आधिकारिक निवास ‘वर्षा’ में हुई। पित्त की थैली की एक सर्जरी से पवार (80) के ठीक होने के बाद दोनों नेताओं के बीच यह पहली मुलाकात है। ठाकरे के नेतृत्व वाली शिवसेना महाराष्ट्र में राष्ट्रवादी कांग्रेस पार्टी और कांग्रेस के साथ सत्ता साझा करती है।

इसे भी पढ़ें: व्हाइट फंगस के कारण कोरोना मरीज की आंत में हुआ छेद, गंगाराम अस्पताल का मामला

राकांपा सूत्रों ने बताया कि राज्य में राजनीतिक घटनाक्रम पर चर्चा की गई। उन्होंने बताया कि दोनों नेताओं ने एमवीए सरकार के कोविड-19 प्रबंधन पर चर्चा की। सूत्रों ने बताया कि पवार ने कोविड-19 महामारी से निपटने के सरकार के तरीके और संक्रमण की दूसरी लहर को फैलने से रोकने के लिए लॉकडाउन जैसी लगाई गई पाबंदियों के क्रियान्वयन पर संतोष जताया। उन्होंने बताया कि बृहस्पतिवार को होने वाली मंत्रिमंडल की बैठक में पाबंदियों में छूट और सरकारी नौकरियों में पदोन्नति में आरक्षण जैसे मुद्दों पर चर्चा हो सकती है।

इसे भी पढ़ें: भारत बायोटेक ने कोवैक्सीन के लिए जीएमपी के मुद्दों पर ब्राजीली नियामक को नया आवेदन भेजा

महाराष्ट्र सरकार ने कोरोना वायरस को फैलने से रोकने के लिए एक जून तक राज्य में लॉकडाउन जैसी पाबंदियां लगायी। पवार की पिछले महीने मुंबई के एक निजी अस्पताल में पित्त की थैली की सर्जरी हुई थी। इससे पहले राकांपा अध्यक्ष को पित्त वाहिनी में पथरी हटाने के लिए 30 मार्च को आपात एन्डोस्कोपी करानी पड़ी थी।





Disclaimer:प्रभासाक्षी ने इस ख़बर को संपादित नहीं किया है। यह ख़बर पीटीआई-भाषा की फीड से प्रकाशित की गयी है।


नोट:कोरोना वायरस से भारत की लड़ाई में हम पूर्ण रूप से सहभागी हैं। इस कठिन समय में अपनी जिम्मेदारी का पूर्णतः पालन करते हुए हमारा हरसंभव प्रयास है कि तथ्यों पर आधारित खबरें ही प्रकाशित हों। हम स्व-अनुशासन में भी हैं और सरकार की ओर से जारी सभी नियमों का पालन भी हमारी पहली प्राथमिकता है।