राफेल सौदे पर प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी चुप क्यों: शिवसेना

  •  प्रभासाक्षी न्यूज नेटवर्क
  •  नवंबर 16, 2018   09:57
राफेल सौदे पर प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी चुप क्यों: शिवसेना

राफेल विमान सौदे पर प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के मौन रहने पर सवाल उठाते हुये शिवसेना ने गुरूवार को कहा कि इससे लोगों में यह ‘‘संदेह’’ और गहरा हो गया है कि इसमें कुछ गड़बड़ हुआ है।

मुंबई। राफेल विमान सौदे पर प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के मौन रहने पर सवाल उठाते हुये शिवसेना ने गुरूवार को कहा कि इससे लोगों में यह ‘‘संदेह’’ और गहरा हो गया है कि इसमें कुछ गड़बड़ हुआ है। सेना ने व्यंग्य करते हुये कहा कि लोग यह विश्वास करेंगे कि रक्षा मंत्रालय में राफेल घोटाला नहीं हुआ था जैसा कि महाराष्ट्र में कोई सिंचाई घोटाला नहीं हुआ। पार्टी ने दावा किया कि विपक्ष ने संदेह व्यक्त किया है कि राफेल सौदे में कुछ छिपाया जा रहा है और सरकार की मंशा क्या है। सेना के मुखपत्र ‘‘सामना’’ में छपे संपादकीय में सवाल करते हुये कहा गया है, ‘‘अंत तक प्रधानमंत्री इस मामले में चुप्पी साधे रहे और राफेल सौदे की जानकारियां सीलबंद लिफाफे में रखकर इसे उच्चतम न्यायालय को सौंप दिया गया, यह (सरकार) संदेह को और बढ़ावा दे रही है। कोई यह कैसे जानेगा कि लिफाफे में सच बताया गया है या फिर लिफाफा खाली है। केंद्र ने सोमवार को राफेल लड़ाकू विमान की कीमत से जुड़ी जानकारी एक सीलबंद लिफाफे में उच्चतम न्यायालय को सौंपी थीं। 

सरकार के सूत्रों ने बताया कि सरकार ने राफेल सौदे के बारे में लिए गए फैसले से जुड़ी ‘‘पूरी जानकारी’’ सौंप दी है। कांग्रेस के नेतृत्व में विपक्षी दल लगातार ये आरोप लगाते आ रहे हैं कि फ्रांसिसी कंपनी से राफेल लड़ाकू विमान खरीद एक ‘‘घोटाला’’ है। केंद्र ने कहा है कि इस तरह की खरीद में सभी नियमों और विनिमयों का पालन किया गया। राज्य और केंद्र में सहयोगी इस दल ने दावा किया कि सिंचाई घोटाले के कारण महाराष्ट्र के खजाने को साठ हजार करोड़ रूपये का नुकसान हुआ है। उन्होंने कहा कि सत्तारूढ़ दल ने इसके लिए अजित पवार और सुनील तटकरे जैसे एनसीपी नेताओं को इसमें दोषी बताया है। सेना ने कहा कि सत्ता में चार साल रहने के बाद भी आरोपियों के खिलाफ कोई कार्रवाई नहीं हुई है। ये नेता आरोपों को कई बार नकार चुके हैं।





Disclaimer:प्रभासाक्षी ने इस ख़बर को संपादित नहीं किया है। यह ख़बर पीटीआई-भाषा की फीड से प्रकाशित की गयी है।


नोट:कोरोना वायरस से भारत की लड़ाई में हम पूर्ण रूप से सहभागी हैं। इस कठिन समय में अपनी जिम्मेदारी का पूर्णतः पालन करते हुए हमारा हरसंभव प्रयास है कि तथ्यों पर आधारित खबरें ही प्रकाशित हों। हम स्व-अनुशासन में भी हैं और सरकार की ओर से जारी सभी नियमों का पालन भी हमारी पहली प्राथमिकता है।