महाराष्ट्र की लोकसभा सीटों को लेकर शिवसेना ने भाजपा के दावे को नकारा

By प्रभासाक्षी न्यूज नेटवर्क | Publish Date: Feb 11 2019 5:27PM
महाराष्ट्र की लोकसभा सीटों को लेकर शिवसेना ने भाजपा के दावे को नकारा

मुख्यमंत्री देवेंद्र फड़णवीस और प्रदेश भाजपा प्रमुख रावसाहेब दानवे ने शनिवार को दावा किया गया था कि उनकी पार्टी राज्य में लोकसभा चुनावों में 2014 में जीती गईं सीटों से एक अधिक 43 सीटें जीतेगी।

मुंबई। शिवसेना ने सोमवार को भाजपा के इस दावे का उपहास उड़ाया कि वह आगामी आम चुनावों में महाराष्ट्र में कुल 48 में से 43 लोकसभा सीटों पर जीत दर्ज करेगी। शिवसेना ने दावा किया कि राज्य की स्थिति खराब होती जा रही है। शिवसेना ने सवाल किया कि भाजपा शासित राज्य में कई समस्याएं होने और उद्धव ठाकरे नीत पार्टी के साथ गठबंधन पर बातचीत अब भी अधर में होने के बावजूद यह पार्टी इतनी अधिक सीटें जीतने की कैसे सोच सकती है। दरअसल, मुख्यमंत्री देवेंद्र फड़णवीस और प्रदेश भाजपा प्रमुख रावसाहेब दानवे ने शनिवार को दावा किया गया था कि उनकी पार्टी राज्य में लोकसभा चुनावों में 2014 में जीती गईं सीटों से एक अधिक 43 सीटें जीतेगी।

इसे भी पढ़ें: राफेल पर शिवसेना का मोदी पर तंज, कहा- मकसद वायुसेना को मजबूत करने का था या...

महाराष्ट्र में कुल 48 लोकसभा सीटें हैं जो उत्तर प्रदेश (80) के बाद सबसे अधिक है। सनद रहे कि फिलहाल केन्द्र और राज्य में राजग के घटक दल शिवसेना ने पिछले साल भविष्य में होने वाले सभी चुनाव अकेले लड़ने की घोषणा की थी। शिवसेना ने पार्टी मुखपत्र ‘सामना’ के संपादकीय में सोमवार को दावा किया कि राज्य इस समय कई मुद्दों से घिरा हुआ है। 

इसे भी पढ़ें: भाजपा के साथ गठबंधन पर बोली शिवसेना, सरकार बनाने के लिए नहीं बनी पार्टी



इसमें दावा किया गया, ‘भाजपा नीत सरकार ने अहमदनगर में किसानों की बेटियों का आंदोलन कुचलने का प्रयास किया। प्याज की खेती करने वालों और दुग्ध उत्पाद बेचने वालों को उचित मूल्य नहीं मिल पा रहा है। शिक्षक सरकारी स्कूलों में 24000 रिक्त पदों को भरने की मांग कर रहे हैं जबकि एक हजार से अधिक बच्चों की बीते चार वर्ष में सरकारी आश्रय स्थलों में मौत हुई है।’ इसमें कहा गया कि सरकार के पास इन मुद्दों का कोई समाधान नहीं है लेकिन उसे राज्य में 43 लोकसभा सीटें जीतने का विश्वास है। ‘सामना’ में कहा गया, ‘राजनीति को जनता के मुद्दों से ज्यादा महत्व दिया जा रहा है। जिस तरह से ठंड में कई बार ओस जम जाती है, शासकों का दिमाग भी जम गया है।’

रहना है हर खबर से अपडेट तो तुरंत डाउनलोड करें प्रभासाक्षी एंड्रॉयड ऐप


Related Story

Related Video