विधानसभा में खुल गई सिद्धारमैया की धोती, खुद को संभालते हुए बोले- कोरोना के बाद बढ़ गया वजन

विधानसभा में खुल गई सिद्धारमैया की धोती, खुद को संभालते हुए बोले- कोरोना के बाद बढ़ गया वजन

सिद्धारमैया और डीके शिवकुमार के बीच हो रहे कानाफूसी को देख सदन के अध्यक्ष में जब सवाल किया तो पूर्व मुख्यमंत्री ने बताया कि कोविड-19 के रिकवरी के दौरान उनका वजन 4 से 5 किलो तक बढ़ गया है।

कर्नाटक विधानसभा सत्र के दौरान पूर्व मुख्यमंत्री और कांग्रेस नेता सिद्धारमैया को एक अजीबोगरीब स्थिति का सामना करना पड़ गया। जब सिद्धारमैया विधानसभा क्षेत्र में भाषण दे रहे थे उसी दौरान उनकी धोती खुल गई। इसके बाद उन्होंने कोरोना वायरस को अपने बढ़े हुए वजन की वजह करार दिया। इसके साथ ही विधानसभा में मौजूद सदस्यों की हंसी छूट गई। जब यह घटना हुई तो सिद्धारमैया अपना अभिभाषण दे रहे थे। मैसुरू गैंगरेप को लेकर वह पुलिस के तौर तरीकों पर सवाल उठा रहे थे तभी कांग्रेस के प्रदेश अध्यक्ष डीके शिवकुमार ने उनके कानों में धोती खुलने की जानकारी दी।

इसे भी पढ़ें: चुनाव बाद हिंसा: ममता ने बीजेपी नेता के शव की तुलना कुत्ते के शव से की, भड़की भगवा पार्टी

ऐसा लग रहा है कि सिद्धारमैया इस पूरी घटनाक्रम से अनजान थे। हालांकि जब डीके शिवकुमार की ओर से उन्हें जानकारी दी गई तब उन्होंने कहा कि वह धोती बांध लेने के बाद सदन को संबोधित करेंगे। सिद्धारमैया और डीके शिवकुमार के बीच हो रहे कानाफूसी को देख सदन के अध्यक्ष में जब सवाल किया तो पूर्व मुख्यमंत्री ने बताया कि कोविड-19 के रिकवरी के दौरान उनका वजन 4 से 5 किलो तक बढ़ गया है। इसी वजह से उनकी धोती खुल गई। इतना सुनते ही सदन में मौजूद सभी सदस्यों के चेहरे पर मुस्कान आ गई। 

इसे भी पढ़ें: यूपी में क्या है भाजपा की चुनावी तैयारी, कितना रहेगा ओवैसी फैक्टर, केजरीवाल का मुफ्त वाला दांव

इसी दौरान कांग्रेस विधायक रमेश कुमार ने हल्के-फुल्के अंदाज़ में कहा कि सिद्धारमैया जी और पार्टी की छवि बचाने के लिए डीके शिवकुमार ने उनके कानों में यह सब बातें बताई। हालांकि उन्होंने इसके बारे में पूरे सदन को जानकारी दे दी। अब इस घटना को लेकर बीजेपी हमारी छवि खराब करेगी। 





नोट:कोरोना वायरस से भारत की लड़ाई में हम पूर्ण रूप से सहभागी हैं। इस कठिन समय में अपनी जिम्मेदारी का पूर्णतः पालन करते हुए हमारा हरसंभव प्रयास है कि तथ्यों पर आधारित खबरें ही प्रकाशित हों। हम स्व-अनुशासन में भी हैं और सरकार की ओर से जारी सभी नियमों का पालन भी हमारी पहली प्राथमिकता है।