क्या चन्नी के मुख्यमंत्री बन जाने से नाराज हैं सिद्धू ? CM के बेटे नवजीत की शादी में नहीं हुए शामिल

क्या चन्नी के मुख्यमंत्री बन जाने से नाराज हैं सिद्धू ? CM के बेटे नवजीत की शादी में नहीं हुए शामिल

मुख्यमंत्री चन्नी के बेटे के शादी समारोह में प्रदेश के दिग्गज नेता, नौकरशाह समेत तमाम हस्तियां मौजूद थीं लेकिन नवजोत सिंह सिद्धू नदारद रहे। इतना ही नहीं सिद्धू शादी समारोह में शामिल होने के स्थान पर पीडब्ल्यूडी मंत्री विजय इंदर सिंगला और विधायक डॉ. राज कुमार छब्बेवाल के साथ वैष्णो देवी चले गए।

चंडीगढ़। क्या पंजाब कांग्रेस में जारी घमासान अभी भी समाप्त नहीं हुआ है ? ऐसा इसलिए कह रहे हैं क्योंकि पंजाब कांग्रेस प्रमुख नवजोत सिंह सिद्धू मुख्यमंत्री चरणजीत सिंह चन्नी के बेटे नवजीत सिंह की शादी में नहीं गए। दरअसल, रविवार को मोहाली के एक गुरुद्वारे में नवजीत सिंह की शादी हुई।  

इसे भी पढ़ें: मुख्यमंत्री नहीं बन पाने पर सिद्धू बौखलाए, बोले- साल 2022 में चन्नी कांग्रेस को डुबो देगा 

कहां थे नवजोत सिंह सिद्धू ? 

मुख्यमंत्री चन्नी के बेटे के शादी समारोह में प्रदेश के दिग्गज नेता, नौकरशाह समेत तमाम हस्तियां मौजूद थीं लेकिन नवजोत सिंह सिद्धू नदारद रहे। इतना ही नहीं सिद्धू शादी समारोह में शामिल होने के स्थान पर पीडब्ल्यूडी मंत्री विजय इंदर सिंगला और विधायक डॉ. राज कुमार छब्बेवाल के साथ वैष्णो देवी चले गए।  

वहीं सिद्धू ने वैष्णो मां के दर्शन करने के बाद इसकी जानकारी भी दी। उन्होंने एक ट्वीट किया कि नवरात्रों के दौरान मां के दर्शन ऊर्जा पैदा करते हैं... आत्मा से सारे मैल धोते हैं ! माता वैष्णो देवी के चरण कमलों में आकर धन्य हो गया।

किसके साथ हुई चन्नी के बेटे की शादी ?

आपको बता दें कि नवजीत ने मोहाली जिले के डेरा बस्सी के पास अमलाला गांव की रहने वाली इंजीनियरिंग ग्रेजुएट सिमरनधीर कौर से शादी की। अपने बेटे के बगल में बैठे मुख्यमंत्री खुद एसयूवी चलाकर गुरुद्वारे तक ले गए। 

इसे भी पढ़ें: लखीमपुर में बघेल बांट रहे 50 लाख का मुआवजा, छत्तीसगढ़ में आत्महत्या करने वाले 141 किसानों के हाथ खाली 

हाल ही में लखीमपुर खीरी हिंसा को लेकर किए जा रहे विरोध प्रदर्शन के दौरान उन्होंने मुख्यमंत्री चन्नी को लेकर अभद्र भाषा का इस्तेमाल किया था, जिसको लेकर अकाली दल ने निशाना भी साधा था।  





नोट:कोरोना वायरस से भारत की लड़ाई में हम पूर्ण रूप से सहभागी हैं। इस कठिन समय में अपनी जिम्मेदारी का पूर्णतः पालन करते हुए हमारा हरसंभव प्रयास है कि तथ्यों पर आधारित खबरें ही प्रकाशित हों। हम स्व-अनुशासन में भी हैं और सरकार की ओर से जारी सभी नियमों का पालन भी हमारी पहली प्राथमिकता है।