गोंडा में छह साल के अगवा बच्चे को STF और पुलिस ने सकुशल छुड़ाया, 4 करोड़ की मांगी थी फिरौती

  •  प्रभासाक्षी न्यूज नेटवर्क
  •  जुलाई 25, 2020   09:59
गोंडा में छह साल के अगवा बच्चे को STF और पुलिस ने सकुशल छुड़ाया,  4 करोड़ की मांगी थी फिरौती

गोण्डा में शुक्रवार को अपहृत बच्चा सकुशल मिल गया है। इस उल्लेखनीय सफलता के लिए पुलिस और एसटीएफ की संयुक्त टीम के लिए दो लाख रूपये के इनाम की घोषणा की गयी है।

लखनउ। उत्तर प्रदेश के गोण्डा जिले में कर्नलगंज क्षेत्र से अपहृत छह साल के बच्चे को पुलिस और स्पेशल टास्क फोर्स (एसटीएफ) ने शनिवार को सकुशल छुड़ा लिया और सभी अपहर्ताओं को गिरफ्तार कर लिया। अपर मुख्य सचिव (गृह एवं सूचना) अवनीश कुमार अवस्थी ने बताया कि गोण्डा में शुक्रवार को अपहृत बच्चा सकुशल मिल गया है। इस उल्लेखनीय सफलता के लिए पुलिस और एसटीएफ की संयुक्त टीम के लिए दो लाख रूपये के इनाम की घोषणा की गयी है। अवस्थी ने बताया कि अपर पुलिस महानिदेशक (कानून व्यवस्था) और पुलिस महानिरीक्षक (एसटीएफ) की अगुवाई में जनपद गोण्डा के कर्नलगंज क्षेत्र से छह साल के बच्चे का अपहरण कर चार करोड रूपये की फिरौती मांगने वाले गिरोह के सदस्यों को गिरफ्तार कर लिया गया है।

इसे भी पढ़ें: UP के स्वास्थ्य मंत्री भी कोरोना की चपेट में, खुद को किया होम क्वारंटाइन

 उन्होंने बताया कि बच्चे का अपहरण करने वाले गिरोह के सूरज पांडेय, छवि पांडेय (पत्नी सूरज पांडेय), राज पांडेय, उमेश यादव और दीपू कश्यप को गोण्डा पुलिस और एसटीएफ की संयुक्त टीम ने मुठभेड़ में गिरफ्तार किया। अवस्थी ने बताया कि दो बदमाश दीपू और उमेश मुठभेड़ में घायल हो गये जबकि अपह्रतबालक सकुशल बरामद हो गया। अपहरण में इस्तेमाल आल्टो कार, 32 बोर की एक पिस्तौल, दो अदद 315 बोर तमंचा भी बरामद किया गया। उल्लेखनीय है कि अपहर्ताओं ने वारदात को अंजाम देने के बाद फोन पर परिजनों से चार करोड़ रुपए की फिरौती मांगी थी। कर्नलगंज थाना क्षेत्र के मोहल्ला गाड़ी बाजार निवासी गुटखा मसाला के एक बड़े व्यापारी राजेश कुमार गुप्ता के छह वर्षीय पौत्र का आल्टो कार सवार बदमाशों ने अपहरण कर लिया था। बताया जाता है कि शुक्रवार को दोपहर बाद स्वास्थ्य विभाग का परिचय पत्र टांग कर कुछ लोग मोहल्ले में मास्क का वितरण करने के बहाने से आए और मास्क वितरित करते हुए लोगों का नाम एक कागज पर लिखा। उन्होंने कोरोना वायरस के कारण मोहल्ले को सेनिटाइजेशन कराने व सेनिटाइजर का वितरण करने का झांसा भी दिया था। पुलिस ने बताया था कि वे राजेश गुप्ता के छह वर्षीय पौत्र को थोड़ी दूर पर खड़ी गाड़ी से सेनिटाइजर देने के बहाने अपने साथ ले गए और बाद में बच्चे को लेकर फरार हो गए। थोड़ी देर बाद एक महिला की आवाज में फोन करके चार करोड़ रुपए की फिरौती मांगी गई थी।





Disclaimer:प्रभासाक्षी ने इस ख़बर को संपादित नहीं किया है। यह ख़बर पीटीआई-भाषा की फीड से प्रकाशित की गयी है।


नोट:कोरोना वायरस से भारत की लड़ाई में हम पूर्ण रूप से सहभागी हैं। इस कठिन समय में अपनी जिम्मेदारी का पूर्णतः पालन करते हुए हमारा हरसंभव प्रयास है कि तथ्यों पर आधारित खबरें ही प्रकाशित हों। हम स्व-अनुशासन में भी हैं और सरकार की ओर से जारी सभी नियमों का पालन भी हमारी पहली प्राथमिकता है।