जिसमें राम को प्रणाम करने की हिम्मत नहीं, वह रामभक्तों का वोट नहीं ले पाएगा: ईरानी

  •  प्रभासाक्षी न्यूज नेटवर्क
  •  मार्च 30, 2019   18:09
जिसमें राम को प्रणाम करने की हिम्मत नहीं, वह रामभक्तों का वोट नहीं ले पाएगा: ईरानी

केन्द्रीय मंत्री स्मृति ईरानी ने प्रियंका गांधी वाड्रा पर निशाना साधते हुए कहा कि जो राम को प्रणाम करने की हिम्मत नहीं कर सकता, वह रामभक्तों का वोट नहीं ले पाएगा।

बदायूं। केन्द्रीय मंत्री स्मृति ईरानी ने कांग्रेस महासचिव प्रियंका गांधी वाड्रा के कल अयोध्या में रामलला के दर्शन ना करने पर निशाना साधते हुए शनिवार को कहा कि जो राम को प्रणाम करने की हिम्मत नहीं कर सकता, वह रामभक्तों का वोट नहीं ले पाएगा। भाजपा की स्टार प्रचारक स्मृति ने आंवला लोकसभा सीट से पार्टी प्रत्याशी धर्मेन्द्र कश्यप के समर्थन में आयोजित सभा में प्रियंका पर कटाक्ष करते हुए कहा  देखिए इन लोगों की राजनीति! अयोध्या तक गए, लेकिन रामलला के सामने शीश ना झुकाया और कहा कि इससे हमारा वोटबैंक नाराज हो जाएगा। 

इसे भी पढ़ें: प्रियंका ने वाराणसी से चुनाव लड़ने की अटकलों को दी और हवा

उन्होंने कहा  जो वोटबैंक के नाराज होने के डर से रामलला को प्रणाम करने की हिम्मत नहीं कर सकता, वो रामभक्तों का वोट नहीं ले पाएगा। मतदान वाले दिन रामभक्त पोलिंग बूथ तक जाएगा और विकास को अपना वोट दे कर आएगा। केन्द्रीय मंत्री ने दावा किया कि रामलला के वजूद का प्रमाण मांगने वाले जो लोग कांग्रेस के शासनकाल में अदालतों में इस दावे को लेकर दस्तावेज देते थे, वे ही अब रामभक्त बनकर घूम रहे हैं। जो देश को भ्रष्टाचार का विष देते थे, वे भगवान शिव की महिमा का गुणगान कर रहे हैं। मालूम हो कि कांग्रेस महासचिव प्रियंका गांधी ने शुक्रवार को अयोध्या के अपने दौरे के दौरान हनुमानगढ़ी के दर्शन किए थे, मगर विवादित स्थल पर बने रामलला के मंदिर जाने से परहेज किया था।





Disclaimer:प्रभासाक्षी ने इस ख़बर को संपादित नहीं किया है। यह ख़बर पीटीआई-भाषा की फीड से प्रकाशित की गयी है।


नोट:कोरोना वायरस से भारत की लड़ाई में हम पूर्ण रूप से सहभागी हैं। इस कठिन समय में अपनी जिम्मेदारी का पूर्णतः पालन करते हुए हमारा हरसंभव प्रयास है कि तथ्यों पर आधारित खबरें ही प्रकाशित हों। हम स्व-अनुशासन में भी हैं और सरकार की ओर से जारी सभी नियमों का पालन भी हमारी पहली प्राथमिकता है।

Prabhasakshi logoखबरें और भी हैं...

राष्ट्रीय

झरोखे से...