माकपा नेता के बयान से बढ़ा सियासी पारा, कहा था- मानव जासूसों से बेहतर काम करेंगे बंगाल पुलिस के खोजी कुत्ते

  •  प्रभासाक्षी न्यूज नेटवर्क
  •  मई 9, 2022   10:46
माकपा नेता के बयान से बढ़ा सियासी पारा, कहा था- मानव जासूसों से बेहतर काम करेंगे बंगाल पुलिस के खोजी कुत्ते
प्रतिरूप फोटो
Creative Commons licenses

मार्क्सवादी कम्युनिस्ट पार्टी (माकपा) के राज्य महासचिव मोहम्मद सलीम ने कहा कि कि मैं माफी मांगता हूं कि अपराधियों को पकड़ने के लिए पुलिस की क्षमता की तुलना बल द्वारा इस्तेमाल किए गए प्रशिक्षित कुत्तों से करना कुत्तों का अपमान था क्योंकि वे उन पर जताये गये भरोसे के बदले अच्छा प्रदर्शन करते हैं।

कोलकाता। पश्चिम बंगाल में पुलिस द्वारा राजनीतिक रूप से संवेदनशील मामलों की जांच में प्रगति की कमी पर अफसोस जताते हुए मार्क्सवादी कम्युनिस्ट पार्टी (माकपा) के राज्य महासचिव मोहम्मद सलीम ने दावा किया कि मानव जासूसों की तुलना में खोजी कुत्तों का इस्तेमाल करने से ऐसी घटनाओं की जांच में बेहतर परिणाम मिलेंगे। इस बयान से राजनीतिक विवाद खड़ा हो गया है और सत्तारूढ़ तृणमूल कांग्रेस (टीएमसी) इसे पुलिस बल का मनोबल गिराने का प्रयास करार दिया। 

इसे भी पढ़ें: अमित शाह के साथ रात्रिभोज के एक दिन बाद सौरव गांगुली ने दीदी की जमकर तारीफ की, बोले- मेरी बहुत करीबी हैं ममता बनर्जी 

सलीम ने शनिवार को बांकुरा में एक जनसभा के दौरान विवादास्पद टिप्पणी की और इसके बाद बीरभूम जिले के आरामबाग में दूसरी रैली में भी इसी तरह की टिप्पणी की। उन्होंने कहा, मैं माफी मांगता हूं कि अपराधियों को पकड़ने के लिए पुलिस की क्षमता की तुलना बल द्वारा इस्तेमाल किए गए प्रशिक्षित कुत्तों से करना कुत्तों का अपमान था क्योंकि वे उन पर जताये गये भरोसे के बदले अच्छा प्रदर्शन करते हैं। आरामबाग में पिछले महीने तृणमूल कांग्रेस के एक उप पंचायत प्रमुख की हत्या के जवाब में बोगटुई में आगजनी की घटना में कम से कम 10 लोगों की मौत हो गई थी। सलीम ने कहा, वे (कुत्ते) निष्पक्ष रूप से काम करेंगे और (टीएमसी बीरभूम जिला अध्यक्ष) अनुब्रत मंडल के कहने पर मामले दर्ज नहीं करेंगे।

कलकत्ता उच्च न्यायालय ने बोगटुई में हुए नरसंहार की जांच सीबीआई को सौंप दी है। तृणमूल कांग्रेस ने माकपा नेता को पुलिस पर निशाना साधने के बजाय राजनीतिक सीमाओं के भीतर लड़ने के लिए कहा। सत्तारूढ़ पार्टी ने कहा कि इस तरह की टिप्पणियों का राज्य के पुलिस बल पर मनोबल गिराने वाला प्रभाव हो सकता है। टीएमसी के राज्य महासचिव और प्रवक्ता कुणाल घोष ने कहा कि इस तरह की तुलना करना वामपंथियों की आनुवांशिक समस्या है, क्योंकि उन्होंने अतीत में नेताजी सुभाष चंद्र बोस के खिलाफ भी इसी तरह की टिप्पणी की थी। 

इसे भी पढ़ें: बंगाल में बिजली बिल ज्यादा, दिलीप घोष ने कहा- ममता बनर्जी को इसे कम करना चाहिए 

उन्होंने कहा, ‘‘सलीम वामपंथियों की वही धारा अपना रहे हैं, जिसने कभी नेताजी पर तोजो का कुत्ता होने का आरोप लगाया था।’’ घोष ने यह भी कहा कि माकपा जितना लोगों से दूर हो रही है, उतना ही वह ऐसी गंदी टिप्पणी कर रही है। भारतीय जनता पार्टी (भाजपा) के राज्य प्रवक्ता सामिक भट्टाचार्य ने कहा कि हाल के दिनों में घटी ऐसी कई घटनाओं ने सलीम को टिप्पणी करने के लिए प्रेरित किया होगा।





Disclaimer:प्रभासाक्षी ने इस ख़बर को संपादित नहीं किया है। यह ख़बर पीटीआई-भाषा की फीड से प्रकाशित की गयी है।


नोट:कोरोना वायरस से भारत की लड़ाई में हम पूर्ण रूप से सहभागी हैं। इस कठिन समय में अपनी जिम्मेदारी का पूर्णतः पालन करते हुए हमारा हरसंभव प्रयास है कि तथ्यों पर आधारित खबरें ही प्रकाशित हों। हम स्व-अनुशासन में भी हैं और सरकार की ओर से जारी सभी नियमों का पालन भी हमारी पहली प्राथमिकता है।