तेल के बढ़ रहे दामों को सोनिया गांधी ने बताया असहनीय बोझ, बोलीं- इससे आप सभी वाकिफ हैं

तेल के बढ़ रहे दामों को सोनिया गांधी ने बताया असहनीय बोझ, बोलीं- इससे आप सभी वाकिफ हैं

बढ़ोतरी के साथ पूरे देश में पेट्रोलियम उत्पादों की कीमतें नई ऊंचाई पर पहुंच गई हैं। जिसको लेकर कांग्रेस ने प्रहार किया है।

नयी दिल्ली। भारत में पेट्रोल-डीजल की कीमतों में लगातार इजाफा हो रहा है। आपको बता दें कि पेट्रोल की कीमत में 26 पैसे प्रति लीटर और डीजल की कीमत में 27 पैसे प्रति लीटर की बढ़ोतरी हुई है। इस बढ़ोतरी के साथ पूरे देश में पेट्रोलियम उत्पादों की कीमतें नई ऊंचाई पर पहुंच गई हैं। इसी बीच पेट्रोल की बढ़ी हुई कीमतों को लेकर कांग्रेस ने प्रहार किया है। 

इसे भी पढ़ें: वैक्सीन लगवाओ, पेट्रोल मुफ्त पाओ, भोपाल कांग्रेस ने शुरू की अनूठी पहल 

कांग्रेस अध्यक्षा सोनिया गांधी ने कहा कि तेल की बढ़ती कीमतों से पड़ रहे असहनीय बोझ से आप सभी वाकिफ हैं। तेल के अलावा, कई अन्य आवश्यक वस्तुओं जैसे दालों और खाद्य तेलों की कीमतें भी आसमान छू रही हैं, जिससे व्यापक संकट पैदा हो गया है। उन्होंने कहा कि कीमतों में बढ़ोतरी ऐसे समय में हो रही है, जब भारी संख्या में आजीविका खत्म हो रही है। बेरोजगारी बढ़ रही है और आर्थिक सुधार की कोई गुंजाइश नहीं है।

वहीं युवा कांग्रेस ने मोदी सरकार पर निशाना साधते हुए एक तस्वीर साझा की और कहा कि अबकी बार लूटजीवी मोदी सरकार ! इस तस्वीर में लिखा है कि वसूली भाई का कारनामा ! इस महीने आज 13वीं बार महंगे हुए पेट्रोल-डीजल ! दिल्ली में पेट्रोल 97.76 और डीजल 88.30 रुपए पर पहुंचा ! नमो मंत्र अर्थात लूटतंत्र ! 

इसे भी पढ़ें: पेट्रोल-डीजल के लगातार बढ़ रहे दाम पर बोले वेणुगोपाल, मोदी सरकार ने तोड़ दिए सारे विश्व रिकॉर्ड 

सार्वजनिक क्षेत्र की तेल विपणन कंपनियों द्वारा जारी मूल्य अधिसूचना के अनुसार पेट्रोल की कीमत में 26 पैसे प्रति लीटर और डीजल की कीमत में 27 पैसे प्रति लीटर की बढ़ोतरी की गई। इस बढ़ोतरी के साथ पूरे देश में इन पेट्रोलियम उत्पादों की दरें नई ऊंचाई पर पहुंच गई हैं। दिल्ली में पेट्रोल 97.76 रुपये प्रति लीटर के उच्चतम स्तर पर पहुंच गया, जबकि डीजल के दाम अब 88.30 रुपये प्रति लीटर है। जबकि देश के कई स्थानों पर पेट्रोल और डीजल ने शतक का आंकड़ा पार कर दिया है।





नोट:कोरोना वायरस से भारत की लड़ाई में हम पूर्ण रूप से सहभागी हैं। इस कठिन समय में अपनी जिम्मेदारी का पूर्णतः पालन करते हुए हमारा हरसंभव प्रयास है कि तथ्यों पर आधारित खबरें ही प्रकाशित हों। हम स्व-अनुशासन में भी हैं और सरकार की ओर से जारी सभी नियमों का पालन भी हमारी पहली प्राथमिकता है।