लोकसभा चुनाव में उत्तर प्रदेश में 38-38 सीटों पर लड़ेंगे सपा-बसपा

By प्रभासाक्षी न्यूज नेटवर्क | Publish Date: Jan 12 2019 1:27PM
लोकसभा चुनाव में उत्तर प्रदेश में 38-38 सीटों पर लड़ेंगे सपा-बसपा
Image Source: Google

गठबंधन कितना लंबा चलेगा, इस सवाल पर मायावती ने कहा कि गठबंधन स्थायी है। यह सिर्फ लोकसभा चुनाव तक नहीं है बल्कि उत्तर प्रदेश के आगामी विधानसभा चुनाव में भी चलेगा और उसके बाद भी चलेगा।

लखनऊ। सपा और बसपा आगामी लोकसभा चुनाव में गठबंधन के तहत उत्तर प्रदेश की 38-38 सीटों पर चुनाव लड़ेंगे। दो सीटें छोटी पार्टियों के लिए छोड़ी गई हैं जबकि अमेठी और रायबरेली की दो सीटें कांग्रेस पार्टी के लिए छोड़ना तय किया गया है। बसपा सुप्रीमो मायावती के साथ सपा मुखिया अखिलेश यादव ने संयुक्त संवाददाता सम्मेलन को संबोधित किया। मायावती ने कहा कि सपा-बसपा गठबंधन से 'गुरू-चेला' (प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी और भाजपा अध्यक्ष अमित शाह) की नींद उड़ जाएगी।

इसे भी पढ़ें : बुआ-बबुआ ने किया लोकसभा सीटों का ऐलान, BJP पर लगाए ये बड़े आरोप

गठबंधन कितना लंबा चलेगा, इस सवाल पर मायावती ने कहा कि गठबंधन स्थायी है। यह सिर्फ लोकसभा चुनाव तक नहीं है बल्कि उत्तर प्रदेश के आगामी विधानसभा चुनाव में भी चलेगा और उसके बाद भी चलेगा। मायावती ने कहा कि भाजपा ने इस गठबंधन को तोड़ने के लिए सपा प्रमुख अखिलेश यादव का नाम जानबूझकर खनन मामले से जोड़ा। उन्होंने कहा कि भाजपा को मालूम होना चाहिए कि उनकी इस घिनौनी हरकत से सपा-बसपा गठबंधन को और ज्यादा मजबूती मिलेगी।

गठबंधन में कांग्रेस को शामिल नहीं किये जाने के बारे में मायावती ने कहा कि कांग्रेस के वर्षों के शासन के दौरान गरीबी, बेरोजगारी और भ्रष्टाचार में वृद्धि हुई। अखिलेश ने आरोप लगाया कि भाजपा सरकार ने उत्तर प्रदेश को 'जाति प्रदेश' बना दिया है, और तो और भाजपा ने भगवानों को भी जाति में बांट दिया। सपा मुखिया ने यह आशंका भी जतायी कि भाजपा दंगा फसाद करा सकती है।

इसे भी पढ़ें : BJP के अत्याचार को खत्म करने के लिए SP-BSP ने किया गठबंधन



उन्होंने कहा कि सपा-बसपा का गठबंधन केवल चुनावी गठबंधन नहीं है बल्कि यह गठबंधन भाजपा के अत्याचार का अंत भी है। 'भाजपा के अहंकार का विनाश करने के लिए बसपा और सपा का मिलना बहुत जरूरी था।' अखिलेश ने कहा, 'मायावती का सम्मान मेरा सम्मान है । अगर भाजपा का कोई नेता मायावती का अपमान करता है तो सपा कार्यकर्ता समझ लें कि वह मायावती का नहीं बल्कि मेरा अपमान है।'

रहना है हर खबर से अपडेट तो तुरंत डाउनलोड करें प्रभासाक्षी एंड्रॉयड ऐप   


Related Story

Related Video