धनबाद जज उत्तम आनंद हत्याकांड पर CBI की विशेष अदलात ने सुनाया फैसला, राहुल वर्मा एवं लखन वर्मा को आजीवन कारावास की हुई सजा

 Dhanbad judge Uttam Anand
creative common
अभिनय आकाश । Aug 06, 2022 5:59PM
बचाव पक्ष के वकील कुमार बिमलेंदु ने शनिवार को कहा कि पिछले महीने झारखंड के धनबाद की एक सत्र अदालत ने अतिरिक्त सत्र न्यायाधीश उत्तम आनंद की हत्या के लिए दोषी ठहराए गए लखन वर्मा और राहुल वर्मा को आजीवन कठोर कारावास की सजा सुनाई गई है।

धनबाद के अपर जिला एवं सत्र न्यायाधीश अष्टम उत्तम आनंद हत्याकांड में सीबीआइ के विशेष न्यायाधीश रजनीकांत पाठक की अदालत छह अगस्त को मुजरिम राहुल वर्मा एवं लखन वर्मा की सजा पर अपना फैसला सुनाया। बचाव पक्ष के वकील कुमार बिमलेंदु ने शनिवार को कहा कि पिछले महीने झारखंड के धनबाद की एक सत्र अदालत ने अतिरिक्त सत्र न्यायाधीश उत्तम आनंद की हत्या के लिए दोषी ठहराए गए लखन वर्मा और राहुल वर्मा को आजीवन कठोर कारावास की सजा सुनाई गई है। दोनों दोषियों पर 30 हजार रुपये का जुर्माना भी लगाया गया है। सजा सुनाए जाने के एक साल बाद जज आनंद को सुबह की सैर के दौरान एक ऑटो-रिक्शा ने टक्कर मार दी और बाद में सिर में चोट लगने के कारण उनकी मौत हो गई।

इसे भी पढ़ें: पात्रा चॉल घोटाले में संजय राउत की कस्टडी बढ़ी, कोर्ट ने 8 अगस्त तक ED की हिरासत में भेजा

अधिवक्ता कुमार विमलेन्दु ने कहा कि दोनों आरोपियों को 28 जुलाई को दोषी ठहराया गया था, आज सजा सुनाई गई। न्यायाधीश ने इसे 'दुर्लभ से दुर्लभतम मामला' नहीं करार दिया और इसके बजाय उन्हें जीवन के अंत तक आजीवन कारावास की सजा दी। मुकदमे के दौरान अभियोजन पक्ष ने कहा था कि अपराध का मकसद पीड़ित का मोबाइल फोन छीनना था और यह एक पूर्व नियोजित कार्य था जिसके लिए आईपीसी की धारा 302 के तहत दोषी ठहराया जाना चाहिए। दूसरी ओर, बचाव पक्ष ने दलील दी थी कि यह था एक "जानबूझकर किया गया अपराध नहीं है और यह केवल गैर इरादतन हत्या के आरोप हैं। 

इसे भी पढ़ें: खोखले भाषणों से कुछ नहीं होगा, न्याय व्यवस्था में आमूलचूल बदलाव करके दिखाएं

गौरतलब है कि 28 जुलाई 2021 को न्यायधीश उत्तम आनंद घर से सुबह पांच बजे मॉर्निंग वॉक पर निकले थे। इस दौरान धनबाद के रणधीर वर्मा चौक के पास एक ऑटो ने उन्हें टक्कर मार दी थी। जिससे उनकी मौत हो गई थी। 28 जुलाई 2022 को अदालत ने फैसला सुनाते हुए कहा कि यह साबित होता है कि दोनों ने जान-बूझकर जज उत्तम आनंद की हत्या की है।  

नोट:कोरोना वायरस से भारत की लड़ाई में हम पूर्ण रूप से सहभागी हैं। इस कठिन समय में अपनी जिम्मेदारी का पूर्णतः पालन करते हुए हमारा हरसंभव प्रयास है कि तथ्यों पर आधारित खबरें ही प्रकाशित हों। हम स्व-अनुशासन में भी हैं और सरकार की ओर से जारी सभी नियमों का पालन भी हमारी पहली प्राथमिकता है।

अन्य न्यूज़