श्रीलंकाई नौसेना ने हमें भगाने के लिए पत्थर, बोतलें फेंकी: मछुआरे

Fishermen
संघ के नेता ने कहा कि पत्थरों की चपेट में आने से 10 से अधिक नौकाओं को कुछ हद तक नुकसान हुआ है। घटना के बाद मछुआरे तट पर लौट आए। उन्होंने कहा कि इस संबंध में तमिलनाडु मत्स्य अधिकारियों के पास एक शिकायत दर्ज कराई गई है।
रामेश्वरम (तमिलनाडु)। श्रीलंकाई नौसैनिकों ने कच्चातीवू के निकट मछली पकड़ने के दौरान भारतीय मछुआरों को भगाने के लिए पत्थर और बोतलें फेंकी, जिससे 10 से अधिक नावों को कुछ नुकसान हुआ। कथित घटना के बाद यहां लौटे मछुआरों ने रविवार को यह वाकया बताया। रामेश्वर मछुआरा संघ के अध्यक्ष देवदॉस ने बताया कि यहां से लगभग 4,000 मछुआरे चार दिसंबर को 500 से अधिक नावों में मछली पकड़ने के लिए निकले थे और जब वे कच्चातीवू द्वीप पर मछली पकड़ रहे थे, श्रीलंकाई नौसैनिक चार नावों में वहां पहुंचे और उन पर पत्थर और बोतलें फेंकी। 

संघ के नेता ने कहा कि पत्थरों की चपेट में आने से 10 से अधिक नौकाओं को कुछ हद तक नुकसान हुआ है। घटना के बाद मछुआरे तट पर लौट आए। उन्होंने कहा कि इस संबंध में तमिलनाडु मत्स्य अधिकारियों के पास एक शिकायत दर्ज कराई गई है। नेता ने कहा कि मछुआरे लंबे समय के बाद कच्चातीवू के पास मछली पकड़ने गए थे और लगातार हो रहे हमलों ने उनमें गहरा भय पैदा कर दिया है।

Disclaimer:प्रभासाक्षी ने इस ख़बर को संपादित नहीं किया है। यह ख़बर पीटीआई-भाषा की फीड से प्रकाशित की गयी है।


नोट:कोरोना वायरस से भारत की लड़ाई में हम पूर्ण रूप से सहभागी हैं। इस कठिन समय में अपनी जिम्मेदारी का पूर्णतः पालन करते हुए हमारा हरसंभव प्रयास है कि तथ्यों पर आधारित खबरें ही प्रकाशित हों। हम स्व-अनुशासन में भी हैं और सरकार की ओर से जारी सभी नियमों का पालन भी हमारी पहली प्राथमिकता है।

अन्य न्यूज़