सीता जी से जुड़े तथ्यों की जांच कराकर हिंदुओं का अपमान कर रही प्रदेश सरकार: शिवराज

By प्रभासाक्षी न्यूज नेटवर्क | Publish Date: Jul 16 2019 8:09PM
सीता जी से जुड़े तथ्यों की जांच कराकर हिंदुओं का अपमान कर रही प्रदेश सरकार: शिवराज
Image Source: Google

पूर्व मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने कहा कि श्रीलंका दौरे के समय मैंने वह स्थान देखा था, जहां सीता जी ने अग्नि परीक्षा दी थी। मन में विचार आया तो श्रीलंका के तत्कालीन राष्ट्रपति जी से चर्चा की।

भोपाल। सारा देश और दुनिया जानती है कि सीता जी को श्रीलंका की अशोक वाटिका में रखा गया था। यह करोड़ों हिंदुओं की आस्था और विश्वास से जुड़ा मामला है। लेकिन प्रदेश सरकार इस तथ्य की जांच की बात कह रही है कि सीताजी लंका गई भी थीं या नहीं। यह करोड़ों हिंदुओं की आस्था पर कुठाराघात है, उनका अपमान है। किसी सरकार को कोई अधिकार नहीं है कि वह लोगों की आस्थाओं पर चोट करे। यह बात पूर्व मुख्यमंत्री एवं भारतीय जनता पार्टी के उपाध्यक्ष शिवराजसिंह चौहान ने मंगलवार को मीडिया से चर्चा के दौरान कही। 

दो देशों को जोड़ते हैं सांची और अशोक वाटिका
पूर्व मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने कहा कि श्रीलंका दौरे के समय मैंने वह स्थान देखा था, जहां सीता जी ने अग्नि परीक्षा दी थी। मन में विचार आया तो श्रीलंका के तत्कालीन राष्ट्रपति जी से चर्चा की। वह भूमि एक मॉनेस्ट्री की थी, लेकिन जब मैंने वहां सीता माता का मंदिर बनाने की बात कही, तो वे खुशी-खुशी तैयार हो गए। हमने फैसला किया कि मध्यप्रदेश सरकार शुरू में एक करोड़ रुपए देगी और यहां मंदिर बनेगा। इसी तरह श्रीलंका में बौद्ध धर्म भारत से गया। सम्राट अशोक के बेटे महेन्द्र और बेटी संघमित्रा सांची से ही श्रीलंका गए। इसलिए सांची में बौद्ध यूनिवर्सिटी बनाने का फैसला किया, ताकि धार्मिक पर्यटन के लिए लोग दोनों देशों में आएं-जाएं और उनके संबंध प्रगाढ़ हों। लेकिन प्रदेश सरकार इस योजना पर आगे बढ़ने की बजाय तथ्यों की जांच की बात कह रही है। 
दलगत राजनीति से ऊपर हैं आस्था के मसले
चौहान ने कहा कि कुछ मामले लोगों की आस्था और विश्वास से जुड़े होते हैं। इन मामलों को दलगत राजनीति से ऊपर रखा जाना चाहिए। चाहे श्रीलंका में सीता जी के मंदिर का निर्माण हो, ओंकारेश्वर में भगवान शंकराचार्य जी की प्रतिमा का निर्माण हो, यह ऐसे काम हैं जिन्हें सरकार बदलने के बाद भी बंद नहीं किया जाना चाहिए, जारी रखना चाहिए। उन्होंने कहा कि मैं सरकार से कहना चाहता हूं ये विषय आस्था के हैं। सरकार आस्था को ठेस न पहुंचाए, वहां मंदिर का निर्माण होना चाहिए।  


आस्था को चोट पहुंचाती है कांग्रेस
चौहान ने कहा कि प्रदेश के अपने जीवन मूल्य हैं, परंपराएं हैं, श्रद्धा और आस्था है, कांग्रेस उनको चोट पहुंचाने की कोशिश क्यों करती है। चाहे राम सेतु का मामला हो,  सीता जी के मंदिर का निर्माण हो, भगवान शंकराचार्य जी की प्रतिमा का निर्माण हो, अद्वैत वेदांत संस्थान बनाने का सवाल हो, हर मामले में कांग्रेस सरकार का यही रवैया है। 
तीर्थ दर्शन पर भी कुल्हाड़ी चलाई सरकार ने 
उन्होंने कहा कि अध्यात्म विभाग का बजट भी 247 करोड़ पर पहुंच गया था, उसे सरकार ने 98 करोड़ पहुंचा दिया। हमने बुजुर्गों को तीर्थयात्रा कराने के लिए तीर्थदर्शन योजना चालू की। उस समय इस योजना का बजट 200 करोड़ हुआ करता था, लेकिन कांग्रेस सरकार ने इसे कम करके 30 करोड़ कर दिया। श्री चौहान ने कहा कि कांग्रेस सरकार लगातार आस्था को खंडित करने का काम कर रही है।
 

रहना है हर खबर से अपडेट तो तुरंत डाउनलोड करें प्रभासाक्षी एंड्रॉयड ऐप   


Related Video