इस्पात विनिर्माण इकाइयों को प्रभावी तरीके से ग्राहकों की सभी जरूरतों को समझना चाहिए: कुलस्ते

steel-manufacturing-units-should-effectively-understand-all-the-needs-of-customers-kulaste
केंद्र की ‘पूर्व की ओर देखो नीति’ने क्षेत्र के लिए कई नए रास्ते खोले हैं। कुलस्ते ने कहा कि इस्पात उद्योग सभी उद्योगों को आधार उपलब्ध कराता है।
गुवाहाटी। देश के सामाजिक-आर्थिक विकास में इस्पात उद्योग की अहम भूमिका पर जोर देते हुए केंद्रीय मंत्री फग्गन सिंह कुलस्ते ने कहा कि इस्पात विनिर्माण इकाइयों को प्रभावी तरीके से ग्राहकों की सभी जरूरतों को समझना चाहिए। इस्पात राज्य मंत्री यहां भारतीय इस्पात प्राधिकरण लिमिटेड (सेल) द्वारा आयोजित एक कार्यक्रम में बोल रहे थे। उन्होंने शुक्रवार को कहा, ‘‘सतत सामाजिक-आर्थिक विकास में इस्पात उद्योग की अहम भूमिका है। इस्पात और लौह उत्पादों का मालवहन इस क्षेत्र में हमेशा से एक बड़ी परेशानी रहा है। इसके पीछे बड़ी वजह क्षेत्र में संपर्क का बेहतर ना होना है। हालांकि, पिछले कुछ सालों में पूर्वोत्तर क्षेत्र इस चुनौती से उबरा है।’’

इसे भी पढ़ें: शिवसेना ने विनायक राउत को लोकसभा में पार्टी का नेता नियुक्त किया

 

उन्होंने ग्राहकों की जरूरतों को समझने के महत्व पर विशेष जोर दिया। उन्होंने कहा कि ‘‘इस्पात उत्पादक इकाइयों को प्रभावी तरीके से ग्राहकों की जरूरत समझने में सक्षम होना चाहिए।’’ इस मौके पर राज्य के परिवहन और उद्योग मंत्री चंद्र मोहन पटवारी ने कहा कि राष्ट्र निर्माण में इस्पात का अपना महत्व है। केंद्र की ‘पूर्व की ओर देखो नीति’ने क्षेत्र के लिए कई नए रास्ते खोले हैं। कुलस्ते ने कहा कि इस्पात उद्योग सभी उद्योगों को आधार उपलब्ध कराता है। 

Disclaimer:प्रभासाक्षी ने इस ख़बर को संपादित नहीं किया है। यह ख़बर पीटीआई-भाषा की फीड से प्रकाशित की गयी है।


नोट:कोरोना वायरस से भारत की लड़ाई में हम पूर्ण रूप से सहभागी हैं। इस कठिन समय में अपनी जिम्मेदारी का पूर्णतः पालन करते हुए हमारा हरसंभव प्रयास है कि तथ्यों पर आधारित खबरें ही प्रकाशित हों। हम स्व-अनुशासन में भी हैं और सरकार की ओर से जारी सभी नियमों का पालन भी हमारी पहली प्राथमिकता है।

अन्य न्यूज़