कोरोना से प्रभावित नहीं हुए इलाकों में जल्द शुरू हो सकती हैं औद्योगिक गतिविधियां: शरद पवार

  •  प्रभासाक्षी न्यूज नेटवर्क
  •  अप्रैल 30, 2020   16:10
कोरोना से प्रभावित नहीं हुए इलाकों में जल्द शुरू हो सकती हैं औद्योगिक गतिविधियां: शरद पवार

राकांपा प्रमुख शरद पवार ने कहा कि सभी छूट सामाजिक दूरी के नियमों का कड़ाई से पालन करते हुए दी जानी चाहिए ताकि इस जानलेवा वायरस को सभी से दूर ही रखा जाए।

मुंबई। राकांपा प्रमुख शरद पवार ने बृहस्पतिवार को कहा कि उन्हें विश्वास है कि तीन मई को लॉकडाउन समाप्त होने के बाद सामान्य स्थिति बहाल करने और राज्य की अर्थव्यवस्था को वापस पटरी पर लाने के लिए महाराष्ट्र के उन सभी इलाकों में औद्योगिक गतिविधियां जल्द शुरू करने के लिए कदम उठाये जाएंगे जो कोविड-19 से प्रभावित नहीं हुए हैं। फेसबुक लाइव पर पवार ने कहा कि कोरोना वायरस हॉटस्पॉट मुंबई और पुणे के संदर्भ में अलग फैसले लिए जा सकते हैं। पवार ने कहा कि सभी छूट सामाजिक दूरी के नियमों का कड़ाई से पालन करते हुए दी जानी चाहिए ताकि इस जानलेवा वायरस को सभी से दूर ही रखा जाए। उन्होंने मुंबई, पुणे, मालेगांव, औरंगाबाद और महाराष्ट्र के अन्य हिस्सों में कोरोना वायरस संक्रमण के तेजी से हो रहे प्रसार पर चिंता जताते हुए रेखांकित किया कि ज्यादातर मामले घनी आबादी वाले इलाकों से आ रहे हैं। 

इसे भी पढ़ें: शरद पवार ने पीएम मोदी को पत्र लिखकर महाराष्ट्र को वित्तीय पैकेज देने की मांग की 

उन्होंने कहा कि लॉकडाउन तीन मई को समाप्त होगा। हम सभी जानना चाहते हैं कि प्रधानमंत्री (नरेंद्र मोदी) भविष्य के लिए किन कदमों की घोषणा करेंगे। लेकिन मुझे यकीन है कि जो इलाके ज्यादा प्रभावित हैं उन्हें छोड़कर, बाकी जगहों (कोविड-19 से अप्रभावित) पर औद्योगिक/व्यावसायिक गतिविधियां शुरू करने की अनुमति देंगे। पूर्व केन्द्रीय मंत्री ने कहा कि जिलाधिकारियों को ऐसे निर्देश दिए गए हैं और सामान्य स्थिति बहाल करने के लिए कदम उठाए जाएंगे। यह उल्लेख करते हुए कि राज्य आर्थिक संकट झेल रहा है, पवार ने कहा कि फैक्टरियों/उद्योगों में काम शुरू करने और लोगों को काम पर लौटने की जरुरत है। 

इसे भी पढ़ें: अर्थव्यवस्था को पटरी पर लाने के लिए चरणबद्ध तरीके से लॉकडाउन हटाए सरकार: सुप्रिया सुले 

उन्होंने कहा कि बहुत हो गया घर में बैठना। यह देखने की जरुरत है कि फैक्टरियों में कामकाज कैसे शुरू हो और अर्थव्यवस्था को पटरी पर लाने के लिए क्या-क्या कदम उठाए जाएं। उन्होंने कहा कि महाराष्ट्र सरकार भी चाहती है कि उद्योग-धंधे शुरू हो जाएं। साथ ही उन्होंने लोगों से कहा कि तीन मई के बाद अगर छूट मिलती भी है तो उन्हें सामाजिक दूरी के नियमों का पालन करना होगा। पवार ने कोविड-19 के कारण कृषि संकट पर बात करते हुए कृषि और फसल कर्ज को लेकर उपाय किए जाने और किसानों के कर्ज के ब्याज में छूट देने पर जोर दिया। उन्होने कहा कि किसानों की मदद के लिए फसल कर्ज पर ब्याज दर शून्य करनी चाहिए। पवार ने लॉकडाउन के कारण उत्पन्न बेरोजगारी के मुद्दे के समाधान की भी मांग की।





Disclaimer:प्रभासाक्षी ने इस ख़बर को संपादित नहीं किया है। यह ख़बर पीटीआई-भाषा की फीड से प्रकाशित की गयी है।


नोट:कोरोना वायरस से भारत की लड़ाई में हम पूर्ण रूप से सहभागी हैं। इस कठिन समय में अपनी जिम्मेदारी का पूर्णतः पालन करते हुए हमारा हरसंभव प्रयास है कि तथ्यों पर आधारित खबरें ही प्रकाशित हों। हम स्व-अनुशासन में भी हैं और सरकार की ओर से जारी सभी नियमों का पालन भी हमारी पहली प्राथमिकता है।