वायरस पर काबू के लिए योजनाबद्ध तरीके से कदम उठाए, केंद्र ने भी की तारीफ: गहलोत

  •  प्रभासाक्षी न्यूज नेटवर्क
  •  मई 27, 2020   17:00
वायरस पर काबू के लिए योजनाबद्ध तरीके से कदम उठाए, केंद्र ने भी की तारीफ: गहलोत

गहलोत ने जयपुर के एक अस्पताल में स्थापित नयी कोविड-19 मॉलिक्यूलर लेबोरेटरी का उद्घाटन बुधवार को वीडियो कान्फ्रेंस के जरिए किया। इस दौरान उन्होंने कहा कि राज्य के जिन जिलों में कोरोना वायरस की जांच सुविधा उपलब्ध नहीं है, वहां शीघ्र ही प्रयोगशाला स्थापित की जाएंगी और इससे जांच की क्षमता भी बढ़ेगी।

जयपुर। राजस्थान के मुख्यमंत्री अशोक गहलोत ने बुधवार को कहा कि राज्य सरकार ने कोरोना वायरस महामारी को शुरूआत में ही गंभीरता से लेते हुए संक्रमण रोकने की दिशा मेंयोजनाबद्ध तरीके से प्रयास किए। उन्होंने कहा कि उनकी सरकार द्वारा उठाए गए कदमों की तारीफ केन्द्र सरकार ने भी की। गहलोत ने जयपुर के एक अस्पताल में स्थापित नयी कोविड-19 मॉलिक्यूलर लेबोरेटरी का उद्घाटन बुधवार को वीडियो कान्फ्रेंस के जरिए किया। इस दौरान उन्होंने कहा कि राज्य के जिन जिलों में कोरोना वायरस की जांच सुविधा उपलब्ध नहीं है, वहां शीघ्र ही प्रयोगशाला स्थापित की जाएंगी और इससे जांच की क्षमता भी बढ़ेगी।

इस समय राज्य में प्रतिदिन 16,250 टेस्ट किए जा रहे हैं। उन्होंने कहा कि काफी कम समय में यह उपलब्धि हासिल हुई है और इसके लिए चिकित्सा व स्वास्थ्य विभाग बधाई का पात्र है। मुख्यमंत्री ने कहा कि महात्मा गांधी अस्पताल के बाद अब जेएनयू अस्पताल में यह प्रयोगशाला स्थापित होने से कोरोना वायरस जांच के परिणाम जल्दी मिल सकेंगे और जांच क्षमता भी बढ़ेगी। उन्होंने कहा कि राज्य सरकार चिकित्सा व स्वास्थ्य के क्षेत्र में बुनियादी ढांचा मजबूत कर रही है। जयपुर राष्ट्रीय विश्वविद्यालय के अध्यक्ष डॉ. संदीप बक्शी ने बताया कि इस लैब में एक समय में 384 नमूनों की जांच की जा सकेगी। मुख्यमंत्री के साथ चिकित्सा व स्वास्थ्य मंत्री डॉ. रघु शर्मा, चिकित्सा व स्वास्थ्य राज्य मंत्री डॉ. सुभाष गर्ग भी मौजूद थे।





Disclaimer:प्रभासाक्षी ने इस ख़बर को संपादित नहीं किया है। यह ख़बर पीटीआई-भाषा की फीड से प्रकाशित की गयी है।


नोट:कोरोना वायरस से भारत की लड़ाई में हम पूर्ण रूप से सहभागी हैं। इस कठिन समय में अपनी जिम्मेदारी का पूर्णतः पालन करते हुए हमारा हरसंभव प्रयास है कि तथ्यों पर आधारित खबरें ही प्रकाशित हों। हम स्व-अनुशासन में भी हैं और सरकार की ओर से जारी सभी नियमों का पालन भी हमारी पहली प्राथमिकता है।