नेटवर्क की समस्या, धूप में चलती है यहां ऑनलाइन क्लास

नेटवर्क की समस्या, धूप में चलती है यहां ऑनलाइन क्लास

कोरोना महामारी के बीच स्कूली बच्चों की पढ़ाई बीच में न रूके इसके लिए सरकार ने प्राईवेट और सरकारी स्कूल के स्टूडेंट्स के लिए ऑनलाइन क्लास की शुरूआत की है। लेकिन स्कूली बच्चों की ऑनलाइन क्लास के बीच नैटवर्क बहुत बड़ी समस्या बन गई है।

कोरोना महामारी ने पूरी दुनिया में तहलका मचा दिया है। इससे सामान्य जीवन भी अस्त-व्यस्त हो गई है। देश में अनलॉक का दूसरा चराण शुरू हो गया है जिसमें दुकान से लेकर शॉपिंग मॉल तक खोले जा चुके है। लेकिन इन सब के बीच ऐसी कई तमाम चीजे है जिसको खोलने पर अभी तक पांबदी लगी हुई है। सिनेमाघरों से लेकर स्कूल तक को अभी तक खोलने की इजाजत नहीं दी गई है। इससे स्कूल के बच्चों की पढ़ाई पर भी काफी असर पड़ रहा है। बता दे कि इस कोरोना महामारी के बीच स्कूली बच्चों की पढ़ाई बीच में न रूके इसके लिए सरकार ने प्राईवेट और सरकारी स्कूल के स्टूडेंट्स के लिए ऑनलाइन क्लास की शुरूआत की है। लेकिन स्कूली बच्चों की ऑनलाइन क्लास के बीच नैटवर्क बहुत बड़ी समस्या बन गई है। इंटरनेट और नेटवर्क की दिक्कतों  के कारण इन स्कूली बच्चों को अब अपने घर की छतों पर बैठ कर ऑनलाइन क्लास लेना पड़ रहा है। 

इसे भी पढ़ें: UP में कोरोना संक्रमण की तादाद 43 हजार के पार, अब तक 1046 मरीजों ने तोड़ा दम

ऐसा ही कुछ हाल नांगल राय में रह रहे स्टूडेंट इंशात कनौजिया का है। इंशात दिल्ली कैंट के सरकारी स्कूल में सातंवी क्लास में पढ़ते हैं। वह बताते है कि जब भी ऑनलाइन क्लास होती है तो उन्हें हमेशा छत पर जाना पड़ता है तकि अच्छे से नेट आएं। नेटवर्क हाल इतना बेहाल है कि छत पर जाने के बाद भी नेटवर्क नहीं आते है। इंशात के पिता राजकुमार कनौजिया ने बताया कि उनके दो बेटे है और दोनों ही सरकारी स्कूल में पढ़ते हैं। एक तीसरी क्लास में है तो दूसरा सांतवी क्लास में और दोनों की ही ऑनलाइन क्लास होती है। सांतवी में पढ़ रहे इंशात की क्लास 12 बजे होती है और तीसरी क्लास में पढ़ रहे छोटे बेटे की क्लास 3 बजे होती है। उन्होंने बताया कि उनके इलाके में नेटवर्क की काफी समस्या है जिसके कारण इन बच्चों के लिए ऑनलाइन क्लास लेना काफी मुशिकल साबित होता जा रहा है। दोपहर के वक्त बच्चों की क्लास होना और नेटवर्क न आने के कारण छत पर जाना काफी दिक्कत पैदा करती है क्योंकि उस वक्त धूप काफी तेजी होती है। ऐसे में बच्चें क्लास अटेंड नहीं कर पा रहे है। 

इसे भी पढ़ें: झांसी, वाराणसी, लखनऊ, कानपुर नगर तथा प्रयागराज में विशेष सतर्कता बरतने की आवश्यकता: योगी

वहीं मनजीत सिंह कहते है कि न ही उनके पास कम्पयूटर है और न ही स्मार्टफोन जिससे उनके दोनों बच्चें ऑनलाइन क्लास नहीं अटेंड कर पा रहे है। मनजीत के दो बेटे है, एक दूसरी क्लास में है और दूसरा सांतवी क्लास में। मनजीत बेलदारी का काम करते है। पढ़ाने का साधन न होने के कारण मनजीत के बच्चों की पढ़ाई बीच में ही रूक गई है। दूसरी और वीरेंद्र यादव जिनकी बेटी पहली क्लास में पढ़ती है वह बताते है कि उनकी बेटी प्राइवेट स्कूल में है और बच्चों का टेस्ट लिया जा रहा है लेकिन समस्या ये है कि पहली क्लास की बच्ची भला ऑनलाइन टेस्ट कैसे दे पाएगी? 





नोट:कोरोना वायरस से भारत की लड़ाई में हम पूर्ण रूप से सहभागी हैं। इस कठिन समय में अपनी जिम्मेदारी का पूर्णतः पालन करते हुए हमारा हरसंभव प्रयास है कि तथ्यों पर आधारित खबरें ही प्रकाशित हों। हम स्व-अनुशासन में भी हैं और सरकार की ओर से जारी सभी नियमों का पालन भी हमारी पहली प्राथमिकता है।

Prabhasakshi logoखबरें और भी हैं...

राष्ट्रीय

झरोखे से...