पंजाब शराब कांड में 100 से अधिक लोगों की गई जान, सनी देओल ने CM को पत्र लिखकर निष्पक्ष जांच की मांग की

  •  प्रभासाक्षी न्यूज नेटवर्क
  •  अगस्त 4, 2020   09:03
पंजाब शराब कांड में 100 से अधिक लोगों की गई जान, सनी देओल ने CM को पत्र लिखकर निष्पक्ष जांच की मांग की

गुरदासपुर से भाजपा सांसद और अभिनेता सनी देओल ने सोमवार को जहरीली शराब त्रासदी मामले में निष्पक्ष जांच की मांग की। पंजाब में 100 से अधिक लोगों की जान ले चुकी जहरीली शराब त्रासदी के सिलसिले में पुलिस ने दो उद्योगपतियों सहित 12 और लोगों को गिरफ्तार किया है

चंडीगढ़। पंजाब में 100 से अधिक लोगों की जान ले चुकी जहरीली शराब त्रासदी के सिलसिले में पुलिस ने दो उद्योगपतियों सहित 12 और लोगों को गिरफ्तार किया है। लुधियाना के पेंट कारोबारी राजेश जोशी की तलाश जारी है। जोशी ने ही शुरुआत में शराब के तीन ड्रम की आपूर्ति की थी, जिसे पीकर लोगों की मौत का यह त्रासद सिलसिला शुरू हुआ। एक बयान के अनुसार, मुख्यमंत्री अमरिंदर सिंह ने पुलिस महानिदेशक दिनकर गुप्ता को निर्देश दिया है कि वह इस मामले से जुड़े प्रत्येक व्यक्ति को गिरफ्तार करें और सुनिश्चित करें कि उन्हें कड़ी से कड़ी सजा मिले।  सिंह ने कहा, ‘‘किसी को बख्शा नहीं जाना चाहिए।’’ पुलिस ने इस सिलसिले में अभी तक राज्य में अवैध शराब का धंधा करने वाले पांच माफिया सहित 37 लोगों को गिरफ्तार किया है। पुलिस प्रमुख ने बताया कि जोशी सहित आठ अन्य आरोपियों की गिरफ्तारी के भी प्रयास जारी हैं। उन सभी की पहचान हो गई है। पिछले 24 घंटे में हुई गिरफ्तारियों में मोगा जिले से रविन्दर सिंह आनंद भी शामिल है। पुलिस प्रमुख ने बताया कि वैसे तो आनंद का जैक बनाने का कारोबार है और उसने हाल ही में सेनिटाइजर बनाना भी शुरू किया है।

इसे भी पढ़ें: पंजाब में जहरीली शराब से मरने वालों की संख्या बढ़कर 86 हुई, सात आबकारी अधिकारी और छह पुलिसकर्मी निलंबित

आनंद ने जोशी से 11,000 रुपये प्रति ड्रम के हिसाब से 200-200 लीटर क्षमता वाले तीन ड्रम जहरीली शराब खरीदी थी। गुप्ता ने बताया कि आनंद के हाथ से ये तीनों ड्रम अवतार सिंह के पास पहुंचे। उसने इन्हें 28,000 रुपये प्रति ड्रम के हिसाब से तरनतारन जिले के रहने वाले हरजीत सिंह और उसके दो बेटों को बेच दिया। तीनों ने अवतार को 50,000 रुपये दिए और बाकि पैसे अभी बकाया हैं। अधिकारी ने बताया, बाप-बेटे ने बाद में बताया कि उन्होंने इस जहरीली शराब की 42 बोतलें 6,000 रुपये में गोबिन्दर सिंह को बेच दी। उन्होंने बताया कि गोबिन्दर ने सभी बोतलों में 10-10 प्रतिशत पानी मिलाकर बाकी शराब से उसे 46 बोतलें बना दीं और उसे बलविन्दर कौर के बेटों को 23-23 की दो खेप में 28 और 29 जुलाई को बेच दिया। गुप्ता ने बताया कि इस मामले में सबसे पहले गिरफ्तार आरोपी कौर ही है। कौर ने उन बोतलों में 50 प्रतिशत पानी मिलाया और उसे 100 रुपये प्रति बोतल के हिसाब से बेच दिया। रविन्दर सिंह ने बताया है कि वह मोगा के एक पेंट दुकानदार अश्वनी बजाज का सहयोगी है, उसे भी गिरफ्तार कर लिया गया है। गुप्ता ने बताया कि रविन्दर से पूछताछ में जोशी का नाम बाहर आया। वह फिलहाल पुलिस के हत्थे नहीं चढ़ा है। इस बीच, गुरदासपुर से भाजपा सांसद और अभिनेता सनी देओल ने सोमवार को जहरीली शराब त्रासदी मामले में निष्पक्ष जांच की मांग की। मुख्यमंत्री अमरिंदर सिंह को लिखे पत्र में देओल ने कहा कि देश का प्रत्येक व्यक्ति इस त्रासदी को लेकर उदास एवं चिंतित है। मीडिया में आई खबरों का हवाला देते हुए उन्होंने दावा किया कि त्रासदी का माफिया लंबे समय से बटाला में अवैध कारोबार कर रहा है। देओल ने कहा, यह मानना काफी मुश्किल है कि बिना जिला प्रशासन की जानकारी अथवा ताकतवर नेताओं के संरक्षण के बिना संचालन किया जा रहा था।





Disclaimer:प्रभासाक्षी ने इस ख़बर को संपादित नहीं किया है। यह ख़बर पीटीआई-भाषा की फीड से प्रकाशित की गयी है।


नोट:कोरोना वायरस से भारत की लड़ाई में हम पूर्ण रूप से सहभागी हैं। इस कठिन समय में अपनी जिम्मेदारी का पूर्णतः पालन करते हुए हमारा हरसंभव प्रयास है कि तथ्यों पर आधारित खबरें ही प्रकाशित हों। हम स्व-अनुशासन में भी हैं और सरकार की ओर से जारी सभी नियमों का पालन भी हमारी पहली प्राथमिकता है।