चुनावी चंदे पर सुप्रीम कोर्ट सख्त, 30 मई तक राजनीतिक दलों को जानकारी सौंपने का दिया वक्त

By अभिनय आकाश | Publish Date: Apr 12 2019 11:06AM
चुनावी चंदे पर सुप्रीम कोर्ट सख्त, 30 मई तक राजनीतिक दलों को जानकारी सौंपने का दिया वक्त
Image Source: Google

शीर्ष अदालत ने चुनावी बॉन्ड योजना को चुनौती देने वाली जनहित याचिका पर सुनवाई पूरी करते हुए यह आदेश सुनाया। चुनावी बांड योजना की वैधानिकता को गैर सरकारी संगठन ऐसोसिएशन ऑफ डेमोक्रेटिक रिफॉर्म (एडीआर) ने कोर्ट में चुनौती दी थी।

नई दिल्ली। चुनावी बॉन्ड पर सुप्रीम कोर्ट ने सख्ती दिखाते हुए सभी दलों को सीलबंद लिफाफे में इसकी जानकारी चुनाव आयोग को सौंपने का निर्देश जारी कर दिया। कोर्ट ने कहा है कि सभी दलों को 15 मई तक मिले चुनावी चंदे की जानकारी देनी होगी। जानकारी सौंपने के लिए सुप्रीम कोर्ट ने 30 मई तक का समय निर्धारित किया है। 

इसे भी पढ़ें: बॉन्ड या चेक के अलावा किसी अन्य रूप में चंदा स्वीकार नहीं करेगी भाजपा: पीयूष

बता दें कि शीर्ष अदालत ने चुनावी बॉन्ड योजना को चुनौती देने वाली जनहित याचिका पर सुनवाई पूरी करते हुए यह आदेश सुनाया। कहा कि चुनावी बांड योजना की वैधानिकता को गैर सरकारी संगठन ऐसोसिएशन ऑफ डेमोक्रेटिक रिफॉर्म (एडीआर) ने कोर्ट में चुनौती दी थी। जिसपर प्रधान न्यायाधीश रंजन गोगोई की अध्यक्षता वाली पीठ ने फैसला सुनाया सुनाया। 

इसे भी पढ़ें: चुनावों में काले धन के इस्तेमाल पर लगाम लगाते हैं इलेक्टोरल बॉन्ड: अरुण जेटली

क्या होता है चुनावी बॉन्ड?



चुनावी बॉन्ड का मतलब एक ऐसा बॉण्ड से है जिसके ऊपर एक करेंसी नोट की तरह उसकी वैल्यू या मूल्य लिखी होती है। इस बॉण्ड का व्यक्तियों, संस्थाओं और संगठनों द्वारा राजनीतिक दलों को पैसा दान करने के लिए इस्तेमाल किया जा सकता है। ये चुनावी बांड 1,000 रुपये, 10,000 रुपये, एक लाख, 10 लाख और एक करोड़ रुपए के मूल्य में उपलब्ध होते हैं। दानकर्ता चुनाव आयोग में रजिस्टर किसी उस पार्टी को ये दान दे सकते हैं, जिस पार्टी ने पिछले चुनावों में कुल वोटों का कम से कम 1% वोट हासिल किया है।

 

रहना है हर खबर से अपडेट तो तुरंत डाउनलोड करें प्रभासाक्षी एंड्रॉयड ऐप   


Related Story

Related Video