बांग्लादेश के मंदिर में हुई थी तोड़फोड़, शुभेंदु अधिकारी ने कोलकाता में उप उच्चायुक्त से की मुलाकात

बांग्लादेश के मंदिर में हुई थी तोड़फोड़, शुभेंदु अधिकारी ने कोलकाता में उप उच्चायुक्त से की मुलाकात

पश्चिम बंगाल विधानसभा के विपक्षी नेता शुभेंदु अधिकारी के नेतृत्व में एक प्रतिनिधिमंडल ने 16 अक्टूबर को बांग्लादेश के नोआखाली में इस्कॉन मंदिर में की गई तोड़फोड और भीड़ द्वारा एक श्रद्धालु की हत्या को लेकर कोलकाता में बांग्लादेश के उप उच्चायुक्त से मुलाक़ात की।

कोलकाता। बांग्लादेश में दुर्गा पूजा पंडाल में तोड़फोड़ और फिर हिन्दू मंदिरों को निशाना बनाया गया। वहीं, रविवार को हिंदुओं के घरों को क्षतिग्रस्त कर दिया। इसी मामले को लेकर पश्चिम बंगाल विधानसभा में विपक्ष के नेता शुभेंदु अधिकारी के नेतृत्व में एक प्रतिनिधिमंडल ने कोलकाता में बांग्लादेश के उप उच्चायुक्त से मुलाकात की। 

इसे भी पढ़ें: बांग्लादेश में दुर्गा पूजा पंडाल में तोड़फोड़, 3 लोगों की हुई मौत, शुभेंदु अधिकारी ने PM मोदी को लिखा पत्र 

इस्कॉन मंदिर में हुई थी तोड़फोड़

समाचार एजेंसी एएनआई के मुताबिक पश्चिम बंगाल विधानसभा के विपक्षी नेता शुभेंदु अधिकारी के नेतृत्व में एक प्रतिनिधिमंडल ने 16 अक्टूबर को बांग्लादेश के नोआखाली में इस्कॉन मंदिर में की गई तोड़फोड और भीड़ द्वारा एक श्रद्धालु की हत्या को लेकर कोलकाता में बांग्लादेश के उप उच्चायुक्त से मुलाक़ात की।

इससे पहले भी शुभेंदु अधिकारी ने मुद्दे को प्रमुखता से उठाया था। उन्होंने एक ट्वीट में कहा था कि बांग्लादेश में कमिला जिले, कॉक्स बाजार और नोआखली में मंदिरों और दुर्गा पूजा पंडालों में तोड़फोड़ करना सोशल मीडिया के माध्यम से फैलाई गई षड्यंत्रकारी अफवाहों के बीच निराशाजनक है। अपनी मर्जी से मां दुर्गा की मूर्तियों का अपमान करना सनातनी बंगाली समुदाय पर एक सुनियोजित हमला है। 

इसे भी पढ़ें: दमदम पार्क में जूतों से सजाया गया दुर्गा पूजा पंडाल, शुभेंदु अधिकारी ने गृह सचिव से की हस्तक्षेप की मांग 

गौरतलब है कि बांग्लादेश में पिछले सप्ताह कोमिला इलाके में हुई घटना की वजह से हिंदू मंदिरों को निशाना बनाया गया। इतना ही नहीं कई जिलों में तो पुलिस और हमलावरों के बीच संघर्ष भी हुआ।





नोट:कोरोना वायरस से भारत की लड़ाई में हम पूर्ण रूप से सहभागी हैं। इस कठिन समय में अपनी जिम्मेदारी का पूर्णतः पालन करते हुए हमारा हरसंभव प्रयास है कि तथ्यों पर आधारित खबरें ही प्रकाशित हों। हम स्व-अनुशासन में भी हैं और सरकार की ओर से जारी सभी नियमों का पालन भी हमारी पहली प्राथमिकता है।