• मिदनापुर एसपी को शुभेंदु अधिकारी की धमकी, कहा- ऐसा कुछ मत करो कि जम्मू-कश्मीर में ड्यूटी करनी पड़े

अंकित सिंह Jul 20, 2021 11:23

शुभेंदु अधिकारी अपने खिलाफ चल रहे पुलिस जांच से नाराज होकर बंगाल पुलिस को सबक सिखाने की बात कर रहे हैं। शुभेंदु अधिकारी ने आरोप लगाया कि भाजपा कार्यकर्ताओं को राज्य सरकार झूठे और मनगढ़ंत केस में फंसा रही है।

पश्चिम बंगाल में नेता प्रतिपक्ष और भाजपा नेता शुभेंदु अधिकारी एक बार फिर से सुर्खियों में हैं। दरअसल, शुभेंदु अधिकारी ने एसपी को ट्रांसफर की चेतावनी देते हुए कड़ी फटकार लगाई है। मामला पूर्वी मिदनापुर का है। शुभेंदु अधिकारी पूर्वी मिदनापुर के एसपी अमरनाथ के से कहा कि आप कुछ ऐसा मत करो कि जम्मू-कश्मीर के अनंतनाग या बारामुला में ड्यूटी करना पड़े। आपको बता दें कि शुभेंदु अधिकारी अपने खिलाफ चल रहे पुलिस जांच से नाराज होकर बंगाल पुलिस को सबक सिखाने की बात कर रहे हैं। शुभेंदु अधिकारी ने आरोप लगाया कि भाजपा कार्यकर्ताओं को राज्य सरकार झूठे और मनगढ़ंत केस में फंसा रही है।

इसे भी पढ़ें: अदालत ने शुभेंदु अधिकारी की जीत के खिलाफ ममता बनर्जी की चुनाव याचिका विचारार्थ स्वीकार की

शुभेंदु अधिकारी ने एसपी को चेताते हुए कहा कि मेरे पास उन सभी कॉल की डिटेल है जो अभिषेक बनर्जी के ऑफिस से आपको की गई है। अगर आपको राज्य सरकार का समर्थन हासिल है तो मुझे केंद्र का है। यह समझने की भूल ना करें कि भाजपा कमजोर है। आपको बता दें कितारपोलिन चोरी केस में शुभेंदु अधिकारी अपराधिक साजिश के आरोपी हैं और 2018 में उनके सिक्योरिटी गार्ड का मर्डर केस भी शामिल है। सीआईडी इस मर्डर केस की जांच कर रही है। इसी को लेकर शुभेंदु का गुस्सा पुलिस पर फूटा। 

इसे भी पढ़ें: पश्चिम बंगाल में क्यों हारी भाजपा ? शुभेंदु अधिकारी ने दिया चौंका देने वाला बयान

इससे पहले पश्चिम बंगाल विधानसभा चुनाव में भाजपा की करारी हार को लेकर नंदीग्राम से विधायक और पार्टी नेता शुभेंदु अधिकारी का बड़ा बयान सामने आया था। दरअसल, शुभेंदु अधिकारी ने बताया है कि आखिरी भाजपा की हार क्यों हुई। उन्होंने कहा कि प्रदेश में भाजपा के कई नेताओं के अति आत्मविश्वास की वजह से पार्टी की हार हुई है। क्योंकि नेताओं को लगता था कि यहां पर भाजपा की 170 से ज्यादा सीटें आएंगी। शुभेंदु अधिकारी ने कहा कि कई नेताओं के अति आत्मविश्वास की वजह से जमीनी हकीकत को समझने में नाकामयाब रहे। हमने शुरुआती दो चरणों में अच्छा प्रदर्शन किया था लेकिन फिर हमारे कई नेता अति आत्मविश्वास में खो गए।