नसीरुद्दीन शाह और अनुपम खेर की लड़ाई में कूदे स्वराज कौशल, बोले- तुम्हें देश ने इतना दिया लेकिन...

नसीरुद्दीन शाह और अनुपम खेर की लड़ाई में कूदे स्वराज कौशल, बोले- तुम्हें देश ने इतना दिया लेकिन...

नसीरुद्दीन शाह और अनुपम खेर की लड़ाई में दिवंगत भाजपा नेत्री सुषमा स्वराज के पति और मिजोरम के पूर्व राज्यपाल स्वराज कौशल भी कूद गए हैं। स्वराज कौशल ने एक के बाद कई ट्वीट कर नसीरुद्दीन शाह पर हमला बोला है।

नागरिकता संशोधन कानून को लेकर बॉलीवुड के दो दिग्गज अभिनेता आमने सामने हैं। सीएए को लेकर  नसीरुद्दीन शाह और अनुपम खेर के बीच जुबानी जंग चल रही है। जिसकी शुरूआत नसीरुद्दीन ने एक बयान देते हुए की थी। जिसमें उन्होंने कहा कि अनुपम खेर एक जोकर हैं और उनके बयानों को सीरियसली लेने की जरूरत नहीं है। अनुपम खेर ने उन्हें जवाब देते हुए कहा था, 'अगर आप मेरी बुराई करके सुर्खियों में आना चाहते हैं तो मैं आपको एक खुशी भेंट करता हूं, आप वर्षों से जिन पदार्थों का सेवन कर रहे हैं, ये उसी का नतीजा है।

लेकिन इन दो अभिनेताओं की लड़ाई में दिवंगत भाजपा नेत्री सुषमा स्वराज के पति और मिजोरम के पूर्व राज्यपाल स्वराज कौशल भी कूद गए हैं। स्वराज कौशल ने एक के बाद कई ट्वीट कर नसीरुद्दीन शाह पर हमला बोला है। उन्होंने कहा कि 'मिस्टर नसीरुद्दीन शाह आप एक कृतघ्न व्यक्ति हैं और इस देश ने आपको नाम, प्रसिद्धी और पैसा दिया, मगर आज भी आप भ्रांति मुक्त नहीं हैं। आपने दूसरे धर्म में शादी की लेकिन किसी ने आपको एक शब्द भी नहीं कहा। आपके भाई भारतीय सेना ने लेफ्टिनेंट जनरल बने तो क्या आपको एक समान अवसर नहीं मिला? फिर भी आप खुश नहीं हैं। आप उदासीनता और भेदभाव की बात करते हैं। जब आप सभी को दोषी मानते हैं तो ये आपकी अंतरात्मा है लेकिन जब अनुपम अपने देश में बेघर घोषित किए जाने पर अपना दर्द बयां करते हैं, तो ये 'मनोरोग' है। स्वराज ने कहा कि आप उस देश के प्रति शुक्रगुजार नहीं हैं जिसने आपको सब कुछ दिया। जब आप बोलते हैं तो बहुत छोटे और लाचार दिखते हैं। ये कहने के लिए पर्याप्त है कि आपका गुस्सा आपकी हताशा है। 

इसके साथ ही स्वराज कौशल ने अनुपम खेर के समर्थन में ट्वीट करते हुए लिखा कि 'मिस्टर नसीरुद्दीन शाह मैं अनुपम खेर को करीब 47 वर्षों से जानता हूं।  मैं कानून की पढ़ाई कर रहा था और अनुपम और किरण खेर महान डायरेक्टर बलवंत गार्गी के सानिध्य में थिएटर सीख रहे थे। 





नोट:कोरोना वायरस से भारत की लड़ाई में हम पूर्ण रूप से सहभागी हैं। इस कठिन समय में अपनी जिम्मेदारी का पूर्णतः पालन करते हुए हमारा हरसंभव प्रयास है कि तथ्यों पर आधारित खबरें ही प्रकाशित हों। हम स्व-अनुशासन में भी हैं और सरकार की ओर से जारी सभी नियमों का पालन भी हमारी पहली प्राथमिकता है।