स्वराज की विरासत उनके जैसे नेताओं को प्रेरित करती रहेगी: सोनोवाल

By प्रभासाक्षी न्यूज नेटवर्क | Publish Date: Aug 7 2019 12:59PM
स्वराज की विरासत उनके जैसे नेताओं को प्रेरित करती रहेगी: सोनोवाल
Image Source: Google

शर्मा ने कहा, ‘‘ क्या इत्तेफाक है कि उन्होंने शाम को लिखा कि वह अनुच्छेद 370 को हटते हुए देखने के लिए ऐतिहासिक दिन का इंतजार कर रही थीं और उन्होंने इतिहास बनने के बाद अपनी अंतिम सांस ली।’’ प्रदेश भाजपा अध्यक्ष रंजीत दास ने कहा कि पार्टी असम में अपने कार्यालयों में एक दिन का शोक मनाएगी।

गुवाहाटी। असम के मुख्यमंत्री सर्बानंद सोनोवाल और वित्त मंत्री हेमंत विश्व शर्मा ने पूर्व विदेश मंत्री एवं वरिष्ठ भाजपा नेता सुषमा स्वराज के निधन पर शोक जताया और ‘‘भारत के सबसे बड़े नेताओं में से एक और सत्यनिष्ठा के प्रतीक ’’ के तौर पर उन्हें याद किया। राज्य में भारतीय जनता पार्टी ने स्वराज के सम्मान में बुधवार के अपने सभी कार्यक्रम रद्द कर दिए हैं। मुख्यमंत्री ने कहा कि स्वराज की विरासत उनके जैसे नेताओं को प्रेरित करती रहेगी। सोनोवाल ने ट्वीट किया, ‘‘पूर्व विदेश मंत्री और भारत की सबसे प्रिय एवं बड़े नेताओं में से एक सुषमा स्वराज जी के असामयिक निधन से काफी दुखी हूं। मैं उनके परिवार तथा दोस्तों के प्रति हार्दिक संवेदनाएं जताता हूं। उनकी महान विरासत हमें प्रेरित करती रहेगी।’’

इसे भी पढ़ें: उत्तराखंड के राज्यपाल, मुख्यमंत्री ने सुषमा स्वराज के निधन पर जताया शोक

वहीं शर्मा ने उन्हें दयालु नेता बताया जिन्हें अपने काम की ओर प्रतिबद्धता के लिए जाना जाता था। वित्त मंत्री ने ट्वीट किया, ‘‘एक रोशनी अचानक से हमारी जिंदगी से चली गई। अपनी प्रिय नेता श्रीमती सुषमा स्वराज जी के निधन से काफी दुखी हूं। वह एक दयालु और अत्यंत उत्कृष्ट नेता थीं जिनका शानदार करियर रहा। उनका जाना स्तब्ध करने वाला है।’’ उन्होंने कहा, ‘‘ मुझे आज भयानक खालीपन महसूस हो रहा है। सत्यनिष्ठा, कार्य कुशलता और काम के प्रति प्रतिबद्धता की प्रतीक सुषमा स्वराज जी एक धर्मनिष्ठ आत्मा थीं।’’ स्वराज का मंगलवार रात को दिल का दौरा पड़ने से 67 वर्ष की आयु में निधन हो गया।

इसे भी पढ़ें: यूएनजीए अध्यक्ष मारिया फर्नांडा ने सुषमा स्वराज के निधन पर जताया शौक, कही ये बात



शर्मा ने कहा, ‘‘ क्या इत्तेफाक है कि उन्होंने शाम को लिखा कि वह अनुच्छेद 370 को हटते हुए देखने के लिए ऐतिहासिक दिन का इंतजार कर रही थीं और उन्होंने इतिहास बनने के बाद अपनी अंतिम सांस ली।’’ प्रदेश भाजपा अध्यक्ष रंजीत दास ने कहा कि पार्टी असम में अपने कार्यालयों में एक दिन का शोक मनाएगी।

रहना है हर खबर से अपडेट तो तुरंत डाउनलोड करें प्रभासाक्षी एंड्रॉयड ऐप   


Related Story

Related Video