खाद की कालाबाजारी करने वालों के खिलाफ रासुका के तहत कार्यवाही करें: योगी आदित्यनाथ

  •  प्रभासाक्षी न्यूज नेटवर्क
  •  अगस्त 25, 2020   08:51
खाद की कालाबाजारी करने वालों के खिलाफ रासुका के तहत कार्यवाही करें: योगी आदित्यनाथ

विभिन्न गड़बड़ियों के मद्देनजर अब तक 623 विक्रेताओं का लाइसेंस निलम्बित किया गया है, जबकि 517 विक्रेताओं को कारण बताओ नोटिस जारी कर जवाब-तलब किया गया है।

लखनऊ। मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने सोमवार को अधिकारियों से कहा कि वे खाद की कालाबाजारी करने वालों के विरुद्ध राष्ट्रीय सुरक्षा कानून (रासुका) के तहत भी कार्यवाही करें। एक सरकारी बयान के मुताबिक उन्होंने अधिकारियों से सोमवार को कहा कि यह सुनिश्चित किया जाए कि प्रत्येक किसान को उसकी जरूरत के अनुसार समय से खाद प्राप्त हो। खाद की कालाबाजारी कर किसानों के हितों से खिलवाड़ करने वाले लोगों के खिलाफ प्रदेश सरकार सख्ती से पेश आएगी।

उन्होंने कहा कि खाद की कालाबाजारी करने वालों के विरुद्ध रासुका के अन्तर्गत भी कार्यवाही करें। गौरतलब है कि रविवार को उत्तर प्रदेश में खाद की बढ़ती किल्लत के बीच राज्य में खाद की दुकानों के औचक निरीक्षण कर अब तक 623 विक्रेताओं का लाइसेंस निलम्बित करने के साथ-साथ उनमें से 35 के खिलाफ मुकदमा दर्ज कराया गया था। राज्य सरकार के एक प्रवक्ता ने रविवार को बताया था कि राज्य में अब तक खाद की कुल 9,747 दुकानों का औचक निरीक्षण करते हुये 3287 नमूने लिए गए। विभिन्न गड़बड़ियों के मद्देनजर अब तक 623 विक्रेताओं का लाइसेंस निलम्बित किया गया है, जबकि 517 विक्रेताओं को कारण बताओ नोटिस जारी कर जवाब-तलब किया गया है। 

इसे भी पढ़ें: मायावती ने कानून-व्यवस्था को लेकर योगी सरकार पर उठाया सवाल, कहा- क्या यही है सरकार का रामराज्य ?

उन्होंने बताया कि कालाबाजारी कर रहे 22 विक्रेताओं का लाइसेंस भी निरस्त किया गया जबकि 35 दुकानों से बिक्री प्रतिबंधित कर संबंधित के खिलाफ सुसंगत धाराओं में मुकदमा भी दर्ज कराया गया है। साथ ही 17 दुकानों को सील भी किया गया है जबकि 666 विक्रेताओं को चेतावनी दी गई है। कृषि विभाग के अपर मुख्य सचिव देवेश चतुर्वेदी के मुताबिक प्रदेश में कहीं भी खाद की कमी नहीं है, बल्कि पिछले वर्ष की तुलना में इस साल 20 प्रतिशत अधिक खाद उपलब्ध है। साथ ही पिछले साल के मुकाबले 30 फीसदी से ज्यादा वितरण भी किया गया है।





Disclaimer:प्रभासाक्षी ने इस ख़बर को संपादित नहीं किया है। यह ख़बर पीटीआई-भाषा की फीड से प्रकाशित की गयी है।


नोट:कोरोना वायरस से भारत की लड़ाई में हम पूर्ण रूप से सहभागी हैं। इस कठिन समय में अपनी जिम्मेदारी का पूर्णतः पालन करते हुए हमारा हरसंभव प्रयास है कि तथ्यों पर आधारित खबरें ही प्रकाशित हों। हम स्व-अनुशासन में भी हैं और सरकार की ओर से जारी सभी नियमों का पालन भी हमारी पहली प्राथमिकता है।