• टाटा स्टील बीएसएल की पहल, ओडिशा में 100 बेड वाला कोविड अस्पताल बनाया

टाटा स्टील बीएसएल ने ओडिशा के ढेंकनाल जिले में 100 बेड वाला कोविड-19 अस्पताल तैयार किया है। पेट्रोलियम एवं प्राकृतिक गैस एवं इस्पात मंत्री धर्मेंद्र प्रधान ने सोमवार शाम को इस अस्पताल का डिजिटल तरीके से उद्घाटन किया।

ढेंकनाल। टाटा स्टील बीएसएल ने ओडिशा के ढेंकनाल जिले में 100 बेड वाला कोविड-19 अस्पताल तैयार किया है। पेट्रोलियम एवं प्राकृतिक गैस एवं इस्पात मंत्री धर्मेंद्र प्रधान ने सोमवार शाम को इस अस्पताल का डिजिटल तरीके से उद्घाटन किया। जिले के ओडापाडा प्रखंड के अंतर्गत खड़गप्रसाद रीजनल हायर सेकंडरी स्कूल में स्थित अस्पताल में पाइपयुक्त ऑक्सीजन वाले 50 बेड, ऑक्सीजन सांद्रक युक्त 40 बेड और वेंटिलेटर युक्त 10 आईसीयू बेड हैं। इसके अलावा अस्पताल में कोविड-19 के मरीजों को द्वितीयक स्तर की देखरेख उपलब्ध कराने के लिए आवश्यक अन्य चिकित्सकीय उपकरण भी मौजूद हैं।

इसे भी पढ़ें: पंजाब में कोरोना किट घोटाला मामले को लेकर सियासत तेज, बीजेपी ने साधा निशाना

इतनी जल्दी अस्पताल तैयार करने के लिए टाटा स्टील बीएसएल और जिला प्रशासन की प्रशंसा करते हुए प्रधान ने कहा, ‘‘इस अस्पताल से क्षेत्र के, विशेषकर ढेंकनाल और अंगुल के लोगों के लिए स्वास्थ्य बुनियादी ढांचा मजबूत होगा।’’ ओडिशा के स्वास्थ्य एवं परिवार कल्याण मंत्री एन के दास ने कहा कि अस्पताल क्षेत्र में कोविड-19 के खिलाफ लड़ाई में लंबे समय तक मदद करेगा। कोविड-19 मरीजों के उपचार के लिए अधिक सुविधाएं होने से यह अस्पताल भीतरी इलाकों से आने वाले मरीजों को शहर के बजाय यहीं सही समय पर गुणवत्तापूर्ण स्वास्थ्य सेवा उपलब्ध कराने में मदद करेगा।

इसे भी पढ़ें: सभी को फ्री वैक्सीन पर बोले सचिन पायलट, केंद्र को मानना पड़ा कांग्रेस का सुझाव

इस परियोजना को पूरा करने में सरकार से मिले लगातार सहयोग के लिए उसे धन्यवाद देते हुए टाटा स्टील बीएसएल के अध्यक्ष टी वी नरेंद्रन ने कहा कि टाटा स्टील और टाटा ग्रुप कोविड-19 के खिलाफ लड़ाई में केंद्र और राज्य की सरकारों के साथ काम कर रहा है। उन्होंने कहा, ‘‘एक अप्रैल से अब तक 45,000 टन से अधिक ऑक्सीजन की आपूर्ति के अलावा हम लोग कंटेनर का भी आयात कर रहे हैं और अस्पताल का निर्माण कर रहे हैं। ’’ टाटा स्टील बीएसएल के प्रबंध निदेशक राजीव सिंघल ने कहा, ‘‘सरकार से सक्रिय रूप से और लगातार मिली मदद के कारण यह कोविड-19 अस्पताल रिकॉर्ड दो सप्ताह में बनकर तैयार हुआ। अस्पताल में 24 घंटे डॉक्टर, पाराचिकित्सक, लैब सेवा, एक्स-रे सुविधा और अन्य जरूरी द्वितीयक देखभाल सेवाएं उपलब्ध हैं।