TDP को लगा बड़ा झटका, 4 राज्यसभा सांसद नया गुट बनाकर भाजपा में शामिल

tdp-big-blow-4-rajya-sabha-mps-included-in-bjp
अभिनय आकाश । Jun 20, 2019 7:07PM
भाजपा की अगुवाई वाले राजग के पास राज्यसभा में फिलहाल बहुमत नहीं है। ऐसे में चार सदस्यों का समर्थन मिलने से उच्च सदन में बहुमत के संकट से जूझ रही भाजपा को राहत मिलेगी।

नयी दिल्ली। लोकसभा चुनाव में किंगमेकर की भूमिका के ख्वाब संजोने वाले चंद्रबाबू नायडू के लिए अब अपने कुनबे को समेट कर रख पाना ही मुश्किल हो रहा है। राज्यसभा में छह सदस्यों वाली तेदेपा के चार सदस्यों द्वारा अलग गुट बनाकर भाजपा का समर्थन देने की खबरों के बीच पार्टी सांसद वाईएस चौधरी ने साफ कर दिया है कि वे भाजपा में शामिल होंगे। राज्यसभा में तेलगू देशम पार्टी (तेदेपा) के चार सदस्यों के अपनी पार्टी से अलग होने के आसार को देखते हुए उच्च सदन में पार्टी टूट की कगार पर पहुंच गयी है।

इसे भी पढ़ें: एग्जिट पोल के बाद चंद्रबाबू नायडू का दावा, 1000 फीसदी TDP दर्ज करेगी जीत

तेदेपा से अलग गुट बनाने वाले सदस्यों वाईएस चौधरी, टीजी वेंकटेश, और सीएम रमेश ने राज्यसभा के सभापति एम वैंकेया नायडू से भेंट कर पार्टी छोड़ने के अपने फैसले से अवगत करा दिया है। आंध्र प्रदेश के पूर्व मुख्यमंत्री एन चंद्रबाबू नायडू की अध्यक्षता वाली तेदेपा के राज्यसभा में छह सदस्य हैं और दलबदल विरोधी कानून के मुतबिक किसी दल से अलग हुये नये गुट को तभी मान्यता मिलेगी जबकि उसके दो तिहाई सदस्य इस गुट में शामिल हों। 

इसे भी पढ़ें: नायडू ने पार्टी कार्यकर्ताओं को हार की परवाह किये बिना साहस के साथ आगे बढ़ने को कहा

गौरतलब है कि लोकसभा और विधानसभा चुनाव में तेदेपा ने बेहद निराशाजनक प्रदर्शन करते हुए सूबे की 25 लोकसभा सीटों में से महज 3 ही सीटों पर जीत दर्ज की वहीं विधानसभा में नायडू की पार्टी का आंकड़ा 22 सीटों पर जा टिका। जिसके बाद से प्रदेश की राजनीति में बदलाव देखने को मिल रहा है। बात दें कि भाजपा की अगुवाई वाले राजग के पास राज्यसभा में फिलहाल बहुमत नहीं है। ऐसे में चार सदस्यों का समर्थन मिलने से उच्च सदन में बहुमत के संकट से जूझ रही भाजपा को राहत मिलेगी।

नोट:कोरोना वायरस से भारत की लड़ाई में हम पूर्ण रूप से सहभागी हैं। इस कठिन समय में अपनी जिम्मेदारी का पूर्णतः पालन करते हुए हमारा हरसंभव प्रयास है कि तथ्यों पर आधारित खबरें ही प्रकाशित हों। हम स्व-अनुशासन में भी हैं और सरकार की ओर से जारी सभी नियमों का पालन भी हमारी पहली प्राथमिकता है।

अन्य न्यूज़