आंध्र प्रदेश में राजधानियां को लेकर प्रदर्शन के बाद TDP सांसद गिरफ्तार

  •  प्रभासाक्षी न्यूज नेटवर्क
  •  जनवरी 21, 2020   13:01
आंध्र प्रदेश में राजधानियां को लेकर प्रदर्शन के बाद TDP सांसद गिरफ्तार

तेलुगू देशम पार्टी के एक सांसद को मंगलवार तड़के किसान प्रदर्शन के एक मामले में गिरफ्तार कर न्यायिक हिरासत में भेज दिया गया। पुलिस ने बताया कि गुंटूर से सांसद जयदेव गल्ला के खिलाफ विभिन्न गैर जमानती धाराओं के तहत सोमवार देर रात मामला दर्ज किया और उसके बाद उन्हें गिरफ्तार कर लिया गया।

अमरावती। तेलुगू देशम पार्टी के एक सांसद को मंगलवार तड़के किसान प्रदर्शन के एक मामले में गिरफ्तार कर न्यायिक हिरासत में भेज दिया गया। पुलिस ने बताया कि गुंटूर से सांसद जयदेव गल्ला के खिलाफ विभिन्न गैर जमानती धाराओं के तहत सोमवार देर रात मामला दर्ज किया और उसके बाद उन्हें गिरफ्तार कर लिया गया। सांसद को देर रात करीब तीन बजे मंगलगिरि मजिस्ट्रेट के समक्ष पेश किया गया। जमानत ना मिलने पर सुबह करीब साढ़े चार बजे उन्हें गुंटूर उप जेल ले जाया गया।

इसे भी पढ़ें: देश का पहला राज्य बना आंध्र प्रदेश, जिसकी होंगी तीन राजधानियां, जानिए इसका महत्व

आंध्र प्रदेश में तीन राजधानियां बनाने की योजना को आकार देने संबंधी ‘आंध्र प्रदेश विकेंद्रीकरण एवं सभी क्षेत्रों का समावेशी विकास विधेयक, 2020’को विधानसभा में पेश किए जाने के खिलाफ सोमवार को प्रदर्शन किया गया था। हंगामे के बीच बाद में यह विधेयक पारित भी हो गया। अमरावती को ही राज्य की राजधानी बनाए रखने की मांग करते हुए निषोधाज्ञा का उल्लंघन करते हुए सैंकड़ों किसानों और महिलाओं ने सोमवार को पुलिस अवरोधकों को तोड़कर विधानसभा परिसर पहुंचने की कोशिश की थी।

इसे भी पढ़ें: जगन सरकार ने 3 राजधानियां बनाने की योजना को आकार देने संबंधी विधेयक विस में किया पेश

गुंटूर ग्रामीण के एसपी सी. विजया राव के अनुसार इनमें से कुछ ने पुलिस कर्मियों पर पथराव भी किया था, जिसमें कम से कम छह कॉन्स्टेबल घायल हो गए। पुलिस कर्मियों पर हमला करने वाले कुछ लोग कथित तौर पर सांसद के समर्थक थे।





Disclaimer:प्रभासाक्षी ने इस ख़बर को संपादित नहीं किया है। यह ख़बर पीटीआई-भाषा की फीड से प्रकाशित की गयी है।


नोट:कोरोना वायरस से भारत की लड़ाई में हम पूर्ण रूप से सहभागी हैं। इस कठिन समय में अपनी जिम्मेदारी का पूर्णतः पालन करते हुए हमारा हरसंभव प्रयास है कि तथ्यों पर आधारित खबरें ही प्रकाशित हों। हम स्व-अनुशासन में भी हैं और सरकार की ओर से जारी सभी नियमों का पालन भी हमारी पहली प्राथमिकता है।