तेज प्रताप का दावा- कुछ लोग देख रहे हैं अध्यक्ष बनने का सपना, मेरे पिता को दिल्ली में बनाया गया बंधक

तेज प्रताप का दावा- कुछ लोग देख रहे हैं अध्यक्ष बनने का सपना, मेरे पिता को दिल्ली में बनाया गया बंधक

तेज प्रताप यादव ने कहा कि पिताजी अस्वस्थ चल रहे हैं और हम उन पर कोई दबाव नहीं डालना चाहते। वह विभिन्न प्रकार की बीमारियों से ग्रसित है। उन्होंने कहा कि पार्टी में चार पांच लोग ऐसे हैं जो राष्ट्रीय जनता दल का अध्यक्ष बनने का सपना देख रहे हैं।

राजद प्रमुख लालू यादव के परिवार में एक बार फिर से विवाद बढ़ता जा रहा है। दरअसल, लालू प्रसाद यादव के बड़े बेटे और पूर्व स्वास्थ्य मंत्री तेज प्रताप यादव ने बड़ा बयान दिया है। माना जा रहा है कि तेज प्रताप का यह बयान कहीं ना कहीं इशारों इशारों में छोटे भाई और पूर्व उपमुख्यमंत्री तेजस्वी यादव पर हमला है। तेज प्रताप ने साफ तौर पर कहा कि कुछ लोग राष्ट्रीय अध्यक्ष बनने का सपना देख रहे हैं और यही कारण है कि उनके पिता को दिल्ली में बंधक बनाकर रखा गया है।


तेज प्रताप का बयान

तेज प्रताप यादव ने कहा कि पिताजी अस्वस्थ चल रहे हैं और हम उन पर कोई दबाव नहीं डालना चाहते। वह विभिन्न प्रकार की बीमारियों से ग्रसित है। उन्होंने कहा कि पार्टी में चार पांच लोग ऐसे हैं जो राष्ट्रीय जनता दल का अध्यक्ष बनने का सपना देख रहे हैं। तेज प्रताप ने कहा कि मैं उनका नाम नहीं लेना चाहता क्योंकि यह सभी को पता है। करीब 1 साल पहले पिताजी को जेल से रिहा किया गया था लेकिन अब तक उन्हें दिल्ली में बंधक बनाकर रखा गया है। तेज प्रताप ने यह भी कहा कि मैंने पिताजी को कहा था कि मेरे साथ पटना चलिए और हम लोग ध्यान रखेंगे। लेकिन उन्हें पटना नहीं आने दिया जा रहा है और उनको दिल्ली में बंधक बनाकर रखा गया है। 

इसे भी पढ़ें: चिराग पासवान को बड़ा झटका, चुनाव आयोग ने लोजपा के चुनाव चिन्ह पर लगाई रोक

चल रहा टकराव

माना जा रहा है कि तेज प्रताप का यह बयान कहीं ना कहीं तेजस्वी यादव पर हमला है। पिछले कुछ दिनों से दोनों भाइयों के रिश्तो में टकराव देखने को मिली है। बिहार के राजद अध्यक्ष जगदानंद सिंह को लेकर भी दोनों भाइयों में तकरार है। हाल में ही तेज प्रताप के खास व्यक्ति को आरजेडी छात्र संघ के प्रमुख पद से हटा दिया गया था और उनकी जगह किसी और को चुना गया था जिसके बाद तेज प्रताप यादव भड़क गए थे। 





नोट:कोरोना वायरस से भारत की लड़ाई में हम पूर्ण रूप से सहभागी हैं। इस कठिन समय में अपनी जिम्मेदारी का पूर्णतः पालन करते हुए हमारा हरसंभव प्रयास है कि तथ्यों पर आधारित खबरें ही प्रकाशित हों। हम स्व-अनुशासन में भी हैं और सरकार की ओर से जारी सभी नियमों का पालन भी हमारी पहली प्राथमिकता है।