तेजस्वी यादव का नीतीश कुमार पर हमला, कहा- बाढ़ और कोरोना से निपटने में नाकाम रही सरकार

  •  प्रभासाक्षी न्यूज नेटवर्क
  •  अगस्त 30, 2020   17:54
तेजस्वी यादव का नीतीश कुमार पर हमला, कहा- बाढ़ और कोरोना से निपटने में नाकाम रही सरकार

बिहार विधानसभा में प्रतिपक्ष के नेता तेजस्वी प्रसाद यादव ने मुख्यमंत्री नीतीश कुमार पर शनिवार को आरोप लगाया कि वह बाढ़ और कोविड-19 महामारी को गंभीरता से नहीं ले रहे हैं।

पटना। बिहार विधानसभा में प्रतिपक्ष के नेता तेजस्वी प्रसाद यादव ने मुख्यमंत्री नीतीश कुमार पर शनिवार को आरोप लगाया कि वह बाढ़ और कोविड-19 महामारी को गंभीरता से नहीं ले रहे हैं। राजद के प्रदेश मुख्यालय में पत्रकारों को संबोधित करते हुए तेजस्वी ने आरोप लगाया, नीतीश का एक अजीबोग़रीब नुस्ख़ा है सभी समस्याओं को- भगवान भरोसे छोड़ दो, चाहे वह बाढ़ हो या कोविड-19 अब धीरे-धीरे अपने-आप खत्म हो जाएंगी।’’ उन्होंने आरोप लगाया कि बिहार बाढ़ से सबसे ज़्यादा प्रभावित होता है लेकिन यहाँ बाढ़ नियंत्रण और सिंचाई का प्रति व्यक्ति खर्च 104.40 रूपये है जबकि राष्ट्रीय औसत 199.20 रूपये है।

इसे भी पढ़ें: बिहार कृषि विश्वविद्यालय के भवनों का CM नीतीश कुमार ने किया उद्घाटन

उन्होंने आरोप लगाया कि मुख्यमंत्री को बाढ़ प्रभावित लोगों की कोई चिंता नहीं है, हालात यह है कि बार-बार मेरे कहने पर उन्होंने सिर्फ दो बार प्रभावित क्षेत्रों का दौरा किया। तेजस्वी ने आरोप लगाया कि कोविड-19 महामारी को लेकर छह महीने में भी सरकार गंभीर नहीं हुई है। उन्होंने कहा, ‘‘सिर्फ़ अगस्त की बात करें तो 28 दिनों में 79,861 नए मामले आए हैं और 376 लोगों की मृत्यु हुई है।

इसे भी पढ़ें: अपने पुराने घर राजद में लौटे श्याम रजक, नीतीश कुमार पर साधा निशाना

यह स्थिति तब है जब पूरा प्रदेश पिछले तीन महीने से लगातार लॉकडाउन में है।’’ तेजस्वी ने कहा कि महामारी की मार सबसे ज्यादा मजदूरों पर पड़ी है। उन्होंने कहा, ‘‘लगभग 40 लाख प्रवासी मज़दूर बाहर से आयें। अदालत ने इनके रोजगार की व्यवस्था करने का निर्देश भी दिया, लेकिन हुआ कुछ नहीं।





Disclaimer:प्रभासाक्षी ने इस ख़बर को संपादित नहीं किया है। यह ख़बर पीटीआई-भाषा की फीड से प्रकाशित की गयी है।


नोट:कोरोना वायरस से भारत की लड़ाई में हम पूर्ण रूप से सहभागी हैं। इस कठिन समय में अपनी जिम्मेदारी का पूर्णतः पालन करते हुए हमारा हरसंभव प्रयास है कि तथ्यों पर आधारित खबरें ही प्रकाशित हों। हम स्व-अनुशासन में भी हैं और सरकार की ओर से जारी सभी नियमों का पालन भी हमारी पहली प्राथमिकता है।