• तेलंगाना में कोरोना के मामलों में आई गिरावट, KCR कैबिनेट ने पूरी तरह से लॉकडाउन हटाने का किया फैसला

तेलंगाना कैबिनेट ने लॉकडाउन को पूरी तरह से हटाने का फैसला किया। इसी के साथ तेलंगाना देश का पहला राज्य बन गया है जहां लॉकडाउन को पूरी तरह से हटाने का फैसला लिया गया है।

हैदराबाद। देश कोरोना वायरस संक्रमण की दूसरी लहर ने हाहाकार मचाया था लेकिन अब संक्रमण के मामलों में गिरावट दर्ज की गई है। जिसके बाद राज्य सरकारें लोगों को राहत देते हुए अनलॉक की प्रक्रिया को शुरू कर दिया है तो कई राज्य अनलॉक भी हो चुके हैं। इसी बीच तेलंगाना से बड़ी खबर सामने आ रही है। बता दें कि तेलंगाना सरकार ने लोगों को राहत देने का फैसला किया है।  

इसे भी पढ़ें: एम्स डायरेक्टर के बयान ने बढ़ाई चिंता, अगले 6 से 8 हफ्तों के बीच आ सकती है कोरोना की तीसरी लहर 

समाचार एजेंसी एएनआई के मुताबिक तेलंगाना कैबिनेट ने लॉकडाउन को पूरी तरह से हटाने का फैसला किया। प्राप्त जानकारी के मुताबिक स्वास्थ्य अधिकारियों द्वारा कोरोना पर दी गई रिपोर्ट के बाद यह फैसला लिया गया है। साथ ही कैबिनेट ने सभी विभागों के अधिकारियों को लॉकडाउन के दौरान लगाए गए सभी नियमों को पूरी तरह से हटाने का भी निर्देश दिया।  

बता दें कि तेलंगाना देश का पहला राज्य बन गया है जहां लॉकडाउन को पूरी तरह से हटाने का फैसला लिया गया है। इससे पहले 9 जून को तेलंगाना सरकार ने कोरोना लॉकडाउन को 10 दिनों के लिए बढ़ा दिया था। जिसकी अवधि 19 जून को समाप्त होने वाली थी। 

96.30 फीसदी है रिकवरी रेट

गौरतलब है कि तेलंगाना में शुक्रवार को कोविड-19 के 1,417 नए मामले सामने आए थे। जिसके साथ ही कुल संक्रमितों की संख्या बढ़कर 6,10,834 हो गई। जबकि 12 और मरीजों की मौत होने से मृतकों की तादाद 3,546 पहुंच गयी। राज्य के स्वास्थ्य विभाग ने एक बुलेटिन के मुताबिक ग्रेटर हैदराबाद नगर निगम (जीएचएमसी) में सबसे अधिक 149 मामले दर्ज किए गए। इसके बाद रंगारेड्डी में 104 और खम्मम में 93 नए मामले सामने आए। 

इसे भी पढ़ें: कोरोना की दूसरी लहर में हुए कई बच्चे अनाथ, Adoption कितना आसान? 

बुलेटिन के अनुसार शुक्रवार को 1,897 मरीज संक्रमण मुक्त हुए, जिसके साथ ही कोविड-19 से ठीक होने वाले लोगों की संख्या 5,88,259 पहुंच गई। तेलंगाना में कोविड-19 के उपचाराधीन मरीजों की संख्या 19,029 हो गई है। तेलंगाना में कोविड-19 के कारण मृत्यु दर 0.58 प्रतिशत है जबकि ठीक होने की दर 96.30 फीसदी है।