चक्रवात यास के कारण बादलों ने गिराया पारा, वाराणसी में तापमान 15 डिग्री गिरा

चक्रवात यास के कारण बादलों ने गिराया पारा, वाराणसी में तापमान 15 डिग्री गिरा

शनिवार की सुबह आसमान में बादलों की सक्रियता का दौर बना रहा, रात से ही रह रहकर कई इलाकों में बूंदाबांदी का दौर बना रहा। सुबह ठंडी हवाओं के जोर के बीच वातावरण में बादलों की सक्रियता का असर भी दिखा। मौसम विज्ञानी मान रहे हैं कि प्री मानसूनी मौसम का रुख अनुकूल बना हुआ है।

पूर्वांचल में मौसम का रुख बदला हुआ है, अनुमानों के विपरीत बादलों की पूर्ववत हालात बने हुए हैं। मौसम विज्ञानी मान रहे हैं कि आने वाले दिनों में भी बादलों की आवाजाही का दौर बना रहेगा। लेकिन, आसमान में सूरज की रोशनी होने के बाद उमस का स्‍तर भी बढ़ जाएगा। मौसम विज्ञानी बंगाल की खाड़ी से उठे तूफान को लेकर पहले से ही अलर्ट कर चुके थे। हालांकि, अब इसका असर काफी हद तक कम हो चुक‍ा है। पर्याप्‍त नमी मिली तो बारिश और बादलों की सक्रियता का भी दौर आएगा। 

इसे भी पढ़ें: वाराणसी के अनोखा मामला, निगेटिव महिला ने कोविड पॉजिटिव बच्ची को दिया जन्म

शनिवार की सुबह आसमान में बादलों की सक्रियता का दौर बना रहा, रात से ही रह रहकर कई इलाकों में बूंदाबांदी का दौर बना रहा। सुबह ठंडी हवाओं के जोर के बीच वातावरण में बादलों की सक्रियता का असर भी दिखा। मौसम विज्ञानी मान रहे हैं कि प्री मानसूनी मौसम का रुख अनुकूल बना हुआ है। ऐसे में बादलों की विदायी के बाद भी वातावरण में पर्याप्‍त नमी मिलने के बाद बारिश का भी दौर आ सकता है। मौसम का रुख बदला तो आने वाले दिनों में उमस का भी स्‍तर बढ़ेगा। जबकि मानसून का रुख धीरे धीरे आ रहा है। उम्‍मीद है कि पखवारे भर बाद यह पूर्वांचल में दस्‍तक दे देगा और 20 जून तक बारिश का क्रम भी शुरू हो जाएगा।





नोट:कोरोना वायरस से भारत की लड़ाई में हम पूर्ण रूप से सहभागी हैं। इस कठिन समय में अपनी जिम्मेदारी का पूर्णतः पालन करते हुए हमारा हरसंभव प्रयास है कि तथ्यों पर आधारित खबरें ही प्रकाशित हों। हम स्व-अनुशासन में भी हैं और सरकार की ओर से जारी सभी नियमों का पालन भी हमारी पहली प्राथमिकता है।