उत्तर प्रदेश के बलरामपुर में जंगली जानवर का आतंक, तेंदुए के हमले में एक बच्चे की मौत

 leopard attack
प्रतिरूप फोटो
ANI
बलरामपुर जिले में सोहेलवा वन्य क्षेत्र के मजगवा गांव में बुधवार शाम को तेंदुए के हमले में एक बच्चे की मौत हो गई है। पुलिस सूत्रों ने बृहस्पतिवार को बताया कि बुधवार देर शाम को मजग़वा गांव में प्रहलाद का 10 वर्षीय बेटा संदीप घर के बाहर लघु शंका के लिए निकला था, तभी एक पेड़ के पीछे बैठे तेंदुए ने उसपर हमला कर दिया

बलरामपुर जिले में सोहेलवा वन्य क्षेत्र के मजगवा गांव में बुधवार शाम को तेंदुए के हमले में एक बच्चे की मौत हो गई है। पुलिस सूत्रों ने बृहस्पतिवार को बताया कि बुधवार देर शाम को मजग़वा गांव में प्रहलाद का 10 वर्षीय बेटा संदीप घर के बाहर लघु शंका के लिए निकला था, तभी एक पेड़ के पीछे बैठे तेंदुए ने उसपर हमला कर दिया और उसे उठा कर गन्ने के खेत में ले जाने लगा। सूत्रों के अनुसार बच्चे के रोने की आवाज सुनकर बाहर निकली उसकी नानी ने शोर मचाया, जिसके बाद आसपास मौजूद लोगों ने भी शोर किया, तब तेंदुआ बच्चे को छोड़ कर भाग गया।

सूत्रों के मुताबिक इस घटना की सूचना मिलने पर वन विभाग और पुलिस की टीम मौके पर पहुंची एवं पुलिस ने शव को पंचनामा कर पोस्टमार्टम के लिए भेज दिया है। जिलाधिकारी महेंद्र कुमार ने बताया कि इस घटना की जांच कराई जा रही है तथा तेंदुए को पकड़कर चिड़ियाघर भेजने के निर्देश दिए गए हैं। उनके मुताबिक तेंदुए के हमले को देखते हुए जंगल से सटे गांवों में वन विभाग, पुलिस तथा राजस्व विभाग की टीमों द्वारा ग्राम प्रधानों और ब्लाक प्रमुखों के सहयोग से जन जागरण अभियान चलाने के भी निर्देश दिए जा रहे हैं।

इसे भी पढ़ें: उत्तर प्रदेश के बलिया में पुलिस और अपराधियों के बीच हुई मुठभेड़, दोनों बदमाश गिरफ्तार

प्रभागीय वन अधिकारी एम. सेम मारन ने ग्रामीणों से अपील की है कि वे रात के समय अपने बच्चों को अकेले न निकलने दें और अपने घरों के आसपास रोशनी रखें। उन्होंने बताया कि जंगल के किनारे बसे गांवों में तेंदुए की तलाश के लिए ड्रोन कैमरे लगाए जाएंगे।

Disclaimer:प्रभासाक्षी ने इस ख़बर को संपादित नहीं किया है। यह ख़बर पीटीआई-भाषा की फीड से प्रकाशित की गयी है।


अन्य न्यूज़