अदालत ने Nawab Malik की जांच के लिए मेडिकल बोर्ड गठित करने का सरकार को निर्देश दिया

Nawab Malik
प्रतिरूप फोटो
Google Creative Commons
मलिक का मई 2022 से एक निजी अस्पताल में इलाज चल रहा है। मलिक को प्रवर्तन निदेशालय (ईडी) ने 23 फरवरी, 2022 को धनशोधन निवारण अधिनियम (पीएमएलए) के तहत भगोड़े गैंगस्टर दाऊद इब्राहिम और उसके सहयोगियों की गतिविधियों से जुड़ी एक जांच के सिलसिले में गिरफ्तार किया था।

मुंबई की एक विशेष अदालत ने शुक्रवार को राजकीय जेजे अस्पताल को निर्देश दिया कि राष्ट्रवादी कांग्रेस पार्टी (राकांपा) नेता नवाब मलिक की स्वास्थ्य स्थिति की जांच और निर्धारण के लिए एक मेडिकल बोर्ड का गठन किया जाए। मलिक का मई 2022 से एक निजी अस्पताल में इलाज चल रहा है। मलिक को प्रवर्तन निदेशालय (ईडी) ने 23 फरवरी, 2022 को धनशोधन निवारण अधिनियम (पीएमएलए) के तहत भगोड़े गैंगस्टर दाऊद इब्राहिम और उसके सहयोगियों की गतिविधियों से जुड़ी एक जांच के सिलसिले में गिरफ्तार किया था।

मई 2022 में पीएमएलए के तहत दर्ज मामलों की सुनवाई के लिए नामित विशेष अदालत ने मलिक को चिकित्सा के आधार पर जमानत देने से इनकार कर दिया था, लेकिन उन्हें इलाज के लिए एक निजी अस्पताल में भर्ती होने की अनुमति दी थी। ईडी ने सितंबर में एक आवेदन दायर कर मलिक के स्वास्थ्य की जांच के लिए एक मेडिकल बोर्ड गठित करने की मांग की थी।

विशेष न्यायाधीश आर एन रोकड़े ने शुक्रवार को जेजे अस्पताल के डीन को एक मेडिकल बोर्ड गठित करने का निर्देश दिया, जिसमें यूरोलॉजी विभाग के प्रमुख, एक नेफ्रोलॉजिस्ट और औषधि विभाग के विभागाध्यक्ष शामिल हों। अदालत ने कहा, ‘‘बोर्ड एक विस्तृत जांच करेगा और आरोपी नवाब मलिक की स्वास्थ्य स्थिति का निर्धारण करेगा।’’ जांच की तारीख और समय के बारे में बोर्ड आर्थर रोड जेल अधीक्षक को सूचित करेगा, ताकि जेल अधिकारी मलिक को बोर्ड के समक्ष पेश कर सकें।

इसने कहा है कि जांच के बाद आरोपी को अगले आदेश तक क्रिटी केयर एशिया निजी अस्पताल में फिर से भर्ती होने का निर्देश दिया जाता है। अदालत ने कहा कि मेडिकल बोर्ड जांच की तारीख से 10 दिनों के भीतर अपनी रिपोर्ट पेश करेगा और भविष्य में उपचार तथा अस्पताल में भर्ती होने की आवश्यकता के बारे में बताएगा। अदालत ने मामले की आगे की सुनवाई के लिए दो फरवरी की तारीख मुकर्रर की है।

Disclaimer:प्रभासाक्षी ने इस ख़बर को संपादित नहीं किया है। यह ख़बर पीटीआई-भाषा की फीड से प्रकाशित की गयी है।


अन्य न्यूज़