अदालत ने पूर्व शिक्षा मंत्री पार्था व उनकी सहयोगी अर्पिता को 18 अगस्त तक न्यायिक हिरासत में भेजा

Partha Img
प्रतिरूप फोटो
ANI
अदालत ने जमानत याचिका को खारिज करते हुए कहा कि आरोप गंभीर हैं और आरोपियों की ईडी की हिरासत के दौरान बड़ी मात्रा में नकदी, सोना, संपत्ति के कागज़ात, बैंक खातों का विवरण और अन्य दस्तावेज़ मिले हैं तथा जांच शुरुआती चरण में है।

कोलकाता, 6 अगस्त। पश्चिम बंगाल के पूर्व शिक्षा मंत्री पार्थ चटर्जी और उनकी सहयोगी अर्पिता मुखर्जी को कोलकाता की एक विशेष अदालत ने शुक्रवार को 18 अगस्त तक न्यायिक हिरासत में भेज दिया। विशेष पीएमएलए अदालत के न्यायाधीश जिबोन कुमार साधू ने प्रवर्तन निदेशालय (ईडी) के आग्रह पर चटर्जी और मुखर्जी को 14-14 दिनों की न्यायिक हिरासत में भेज दिया। अदालत ने पूर्व मंत्री की ज़मानत याचिका को खारिज कर दिया और चटर्जी और मुखर्जी को 18 अगस्त को मामले की फिर से सुनवाई होने पर पेश करने को कहा।

अदालत ने जमानत याचिका को खारिज करते हुए कहा कि आरोप गंभीर हैं और आरोपियों की ईडी की हिरासत के दौरान बड़ी मात्रा में नकदी, सोना, संपत्ति के कागज़ात, बैंक खातों का विवरण और अन्य दस्तावेज़ मिले हैं तथा जांच शुरुआती चरण में है। चटर्जी को यहां प्रेसिडेंसी सुधार गृह में, जबकि मुखर्जी को अलीपुर महिला सुधार गृह में रखा जाएगा और अदालत ने इसके अधीक्षकों को निर्देश दिया कि वे जांच अधिकारियों को उनसे पूछताछ करने की इजाजत दें।

सुधार गृह के अधीक्षकों को निर्देश दिया गया कि वे जांचकर्ताओं से जरूरी सहयोग करें और सुनवाई की अगली तारीख पर अदालत में रिपोर्ट जमा कराएं। न्यायाधीश साधू ने ईडी और मुखर्जी के वकीलों की इस गुजारिश को भी स्वीकार कर लिया कि महिला सुधार गृह की अधीक्षक को मुखर्जी की सुरक्षा सुनिश्चित करने के लिए निर्देशित किया जाए

। स्कूल सेवा आयोग (एसएससी) की ओर से की गई भर्तियों में कथित अनियमितता में धन के लेन-देन से जुड़ी जांच के सिलसिले में 23 जुलाई को चटर्जी और मुखर्जी को गिरफ्तार किया था। तब से ही वे ईडी की हिरासत में थे। ईडी ने दावा किया है कि उसने मुखर्जी के स्वामित्व वाले आवासों से 49.80 करोड़ रुपये नकद, ज़ेवरात, और सोने की छड़ें बरामद की हैं। उसने यह भी दावा किया है कि एजेंसी को संपत्तियों और कंपनियों से संबंधित दस्तावेज़ भी मिले हैं। दोनों को धन शोधन रोकथाम कानून (पीएमएलए) के तहत गिरफ्तार किया गया है।

Disclaimer:प्रभासाक्षी ने इस ख़बर को संपादित नहीं किया है। यह ख़बर पीटीआई-भाषा की फीड से प्रकाशित की गयी है।


नोट:कोरोना वायरस से भारत की लड़ाई में हम पूर्ण रूप से सहभागी हैं। इस कठिन समय में अपनी जिम्मेदारी का पूर्णतः पालन करते हुए हमारा हरसंभव प्रयास है कि तथ्यों पर आधारित खबरें ही प्रकाशित हों। हम स्व-अनुशासन में भी हैं और सरकार की ओर से जारी सभी नियमों का पालन भी हमारी पहली प्राथमिकता है।

अन्य न्यूज़