जवानों के लिए सरकार ने उठाए कई कदम, अमित शाह बोले- आपकी वजह से हम चैन से सो पाते हैं

जवानों के लिए सरकार ने उठाए कई कदम, अमित शाह बोले- आपकी वजह से हम चैन से सो पाते हैं

शाह ने कहा कि देश के प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी ने एक बहुत बड़ा निर्णय किया है कि CAPF के सभी जवानों और उनके परिवारों को भी एक अलग-अलग आयुष्मान कार्ड दिया जाएगा, जिससे वो अस्पतालों में अपना और अपने परिवार का इलाज करा सकते हैं।

केंद्रीय गृह मंत्री अमित शाह ने जैसलमेर के रोहिताश बॉर्डर आउट पोस्ट पर आयोजित सैनिक सम्मेलन समारोह में हिस्सा लिया। इस अवसर पर अमित शाह ने कहा कि मैं आपको एक बात बताना चाहता हूं कि मेरे सहित देश के 130 करोड़ लोग रात को चैन से सो पाते हैं क्योंकि हमको देश की सीमा की सुरक्षा कर रहे जवानों पर भरोसा है। उन्होंने कहा कि भारत सरकार ने जवानों के लिए अनेक कल्याणकारी कदम उठाए हैं। प्रधानमंत्री छात्रवृत्ति योजना, एमबीबीएस और बीडीएस की सीटों में आरक्षण, शहीद हुए जवान को सरकार के अलावा भी 'वीर निधि' से सहायता की जाती है।

शाह ने कहा कि देश के प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी ने एक बहुत बड़ा निर्णय किया है कि CAPF के सभी जवानों और उनके परिवारों को भी एक अलग-अलग आयुष्मान कार्ड दिया जाएगा, जिससे वो अस्पतालों में अपना और अपने परिवार का इलाज करा सकते हैं। देश के प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी जी ने एक बहुत बड़ा निर्णय किया है कि CAPF के सभी जवानों और उनके परिवारों को भी एक अलग-अलग आयुष्मान कार्ड दिया जाएगा, जिससे वो अस्पतालों में अपना और अपने परिवार का इलाज करा सकते हैं। 

जैसलमेर में शाह ने कहा कि बीएसएफ को अब तक लगभग 4.5 लाख स्वास्थ्य कार्ड दिए जा चुके हैं। मुझे विश्वास है कि फरवरी के अंत तक हम सभी जवानों और उनके परिवारों को कार्ड उपलब्ध कराने के लक्ष्य को पूरा कर सकेंगे। उन्होंने कहा कि कम से कम एक वर्ष में 100 दिन जवान अपने परिवार के साथ रह पाए, इस प्रकार की व्यवस्था भी हम करने जा रहे हैं। इससे पहले केंद्रीय गृह मंत्री अमित शाह ने जैसलमेर के रोहिताश बॉर्डर आउट पोस्ट का दौरा किया और बीएसएफ कर्मियों से मुलाकात की। अमित शाह और केंद्रीय मंत्री गजेंद्र सिंह शेखावत ने रोहिताश बॉर्डर आउट पोस्ट पर बीएसएफ जवानों और अधिकारियों के साथ डिनर भी किया।





नोट:कोरोना वायरस से भारत की लड़ाई में हम पूर्ण रूप से सहभागी हैं। इस कठिन समय में अपनी जिम्मेदारी का पूर्णतः पालन करते हुए हमारा हरसंभव प्रयास है कि तथ्यों पर आधारित खबरें ही प्रकाशित हों। हम स्व-अनुशासन में भी हैं और सरकार की ओर से जारी सभी नियमों का पालन भी हमारी पहली प्राथमिकता है।