बंगाल के राज्यपाल ने जादवपुर विश्वविद्यालय के कुलपति से मुलाकात की

  •  प्रभासाक्षी न्यूज नेटवर्क
  •  सितंबर 22, 2019   14:12
बंगाल के राज्यपाल ने जादवपुर विश्वविद्यालय के कुलपति से मुलाकात की

दास ने यह भी कहा कि एक बार काम पर लौटने के बाद वह छात्रों के साथ बातचीत करेंगे।’’ उन्होंने कहा, ‘‘मैं कहना चाहूंगा कि हमारी सोच एक जैसी है। उचित माहौल तैयार करने, छात्रों का चरित्र निर्माण करने और राष्ट्र निर्माण के लिए हमें मिलकर काम करना होगा।’’

कोलकाता। पश्चिम बंगाल के राज्यपाल जगदीप धनखड़ ने शनिवार को यहां यादवपुर विश्वविद्यालय के कुलपति सुरंजन दास से एक निजी अस्पताल में मुलाकात की और कहा कि छात्रों के लिए उचित माहौल बनाने के लिये वह विश्वविद्यालय के वरिष्ठ अधिकारी के साथ मिलकर काम करेंगे। धनखड़ ने सुबह करीब दस बजे शहर के दक्षिणी इलाके में स्थित अस्पताल में दास और प्रति उपकुलपति पी के घोष से मुलाकात की। विश्वविद्यालय में छात्रों के एक वर्ग द्वारा केंद्रीय मंत्री बाबुल सुप्रियो के साथ धक्कामुक्की की घटना के बाद दोनों को गुरुवार को यहां भर्ती कराया गया था। राज्य के शिक्षा मंत्री पार्थ चटर्जी ने भी अस्पताल जाकर विश्वविद्यालय के दोनों पदाधिकारियों का हाल-चाल जाना। बाद में दोनों को अस्पताल से छुट्टी दे दी गई। धनखड़ ने कहा, ‘‘कुलपति अब स्वस्थ हैं और घर जाना चाहते हैं। दास ने यह भी कहा कि एक बार काम पर लौटने के बाद वह छात्रों के साथ बातचीत करेंगे।’’ उन्होंने कहा, ‘‘मैं कहना चाहूंगा कि हमारी सोच एक जैसी है। उचित माहौल तैयार करने, छात्रों का चरित्र निर्माण करने और राष्ट्र निर्माण के लिए हमें मिलकर काम करना होगा।’’ दास और घोष को गुरुवार शाम “सरदर्द, चक्कर, धड़कन और जी घबराने” की शिकायत के बाद अस्पताल में भर्ती कराया गया था।

इसे भी पढ़ें: शाह ने पार्टी कार्यकर्ताओं के साथ की बैठक, कहा- विकास कार्यो को जनता तक पहुंचाएं

सुप्रियो अखिल भारतीय विद्यार्थी परिषद के एक कार्यक्रम में हिस्सा लेने 19 सितंबर को वहां गए थे। वामपंथी छात्र संगठनों और तृणमूल कांग्रेस के कुछ सदस्यों ने लगभग पांच घंटे तक सुप्रियो को घेरे रखा। इस दौरान विश्वविद्यालय के दोनों अधिकारियों की तबीयत खराब हो गई थी। धनखड़ विश्वविद्यालय के कुलाधिपति भी हैं। सुप्रियो को बृहस्पतिवार की शाम छात्रों द्वारा घेरे जाने पर कुलपति के परिसर से चले जाने के मामले को भी धनखड़ ने गंभीरता से लिया था। राजभवन की ओर से जारी एक बयान के अनुसार, दायित्वों को पूरा नहीं करने सहित विश्वविद्यालय के कुलपति की ओर से हुई गंभीर चूकों का भी राज्यपाल ने संज्ञान लिया।

इसे भी पढ़ें: राष्ट्रविरोधी तत्वों का गढ़ बनी यादवपुर यूनिवर्सिटी पर सर्जिकल स्ट्राइक की जरूरत: बंगाल भाजपा

धनखड़ ने शनिवार को कहा, ‘‘मैंने कुलपति और प्रो-वाइस चांसलर के साथ काफी समय बिताया और मैं उनकी हालत से पूरी तरह अवगत हूं।’’ राज्यपाल ने कहा, ‘‘ मुझे उनके स्वास्थ्य की काफी चिंता है। मैं कुलपति की पत्नी और बेटी से भी मिलना चाहूंगा।’’ कुलपति की पत्नी कलकत्ता विश्वविद्यालय में एक प्रोफेसर हैं। बाद में शिक्षा मंत्री दास और घोष से मिलने अस्पताल पहुंचे। टीएमसी महासचिव चटर्जी ने पत्रकारों को बताया, ‘‘मैं कुलपति और प्रो वाइसचांसलर से मिलने आया था। उनकी सेहत में सुधार है। हमनें कई मुद्दों पर चर्चा की और उन्हें बताया कि इस वक्त राज्य सरकार विश्वविद्यालय के साथ खड़ी है।’’ उन्होंने कहा, ‘‘हम गुरुवार को विश्वविद्यालय में हुई तोड़फोड़ की निंदा करते हैं।’’ अस्पताल से छुट्टी मिलने के बाद कुलपति सुरंजन दास ने कहा, ‘‘हम उम्मीद करते हैं कि भविष्य में ऐसी घटनाएं नहीं होंगी।’’





Disclaimer:प्रभासाक्षी ने इस ख़बर को संपादित नहीं किया है। यह ख़बर पीटीआई-भाषा की फीड से प्रकाशित की गयी है।


नोट:कोरोना वायरस से भारत की लड़ाई में हम पूर्ण रूप से सहभागी हैं। इस कठिन समय में अपनी जिम्मेदारी का पूर्णतः पालन करते हुए हमारा हरसंभव प्रयास है कि तथ्यों पर आधारित खबरें ही प्रकाशित हों। हम स्व-अनुशासन में भी हैं और सरकार की ओर से जारी सभी नियमों का पालन भी हमारी पहली प्राथमिकता है।