मोदी सरकार के आर्थिक कुप्रबंधन का असर बरकरार, जनता की मुश्किलें बढ़ीं: कांग्रेस

the-impact-of-economic-mismanagement-of-the-modi-government-the-problems-of-the-people-increased-says-congress
सुरजेवाला ने कहा कि भारतीय रिजर्व बैंक विरल आचार्य अपना कार्यकाल खत्म होने से छह महीने पहले इस्तीफा दे दिया। आचार्य का नाम उन विशेषज्ञों में शामिल थे जो भाजपा शासन को ‘सच का आइना’ दिखा रहे थे।

नयी दिल्ली। कांग्रेस ने आर्थिक विकास के आंकड़ों और भारतीय रिजर्व बैंक के उप गवर्नर विरल आचार्य के इस्तीफे को लेकर सोमवार को सरकार पर आरोप लगाया कि उसके पिछले पांच वर्षों के आर्थिक कुप्रबंधन के कारण देश की जनता की मुश्किलें बढ़ गई हैं।

पार्टी के मुख्य प्रवक्ता रणदीप सुरजेवाला ने एक बयान में कहा, ‘‘भाजपा को फिर से जनादेश मिला है, लेकिन देश की आर्थिक बदहाली बरकरार है। पिछले पांच वर्षों में सरकार ने अर्थव्यवस्था का जिस तरह से कुप्रबंधन किया उसके झटके अभी महसूस किए जा रहे हैं।’’

इसे भी पढ़ें: मॉब लिंचिंग पर आजाद ने PM को घेरा, बोले- हमें पुराना भारत लौटा दीजिए

उन्होंने कहा, ‘‘ देश औसत से कम मानसून, गंभीर जल संकट का सामना कर रहा है, निजी निवेश को बहुत प्रभावित हुआ है, ऐसे में जनता की आर्थिक मुश्किलें गहरा गई हैं।’’ सुरजेवाला ने कहा, ‘‘भारतीय रिजर्व बैंक विरल आचार्य अपना कार्यकाल खत्म होने से छह महीने पहले इस्तीफा दे दिया। आचार्य का नाम उन विशेषज्ञों में शामिल थे जो भाजपा शासन को ‘सच का आइना’ दिखा रहे थे।’

Disclaimer:प्रभासाक्षी ने इस ख़बर को संपादित नहीं किया है। यह ख़बर पीटीआई-भाषा की फीड से प्रकाशित की गयी है।


नोट:कोरोना वायरस से भारत की लड़ाई में हम पूर्ण रूप से सहभागी हैं। इस कठिन समय में अपनी जिम्मेदारी का पूर्णतः पालन करते हुए हमारा हरसंभव प्रयास है कि तथ्यों पर आधारित खबरें ही प्रकाशित हों। हम स्व-अनुशासन में भी हैं और सरकार की ओर से जारी सभी नियमों का पालन भी हमारी पहली प्राथमिकता है।

अन्य न्यूज़