नई शिक्षा नीति मशीन नहीं मनुष्य निर्माण की नीति है: भाजपा

  •  प्रभासाक्षी न्यूज नेटवर्क
  •  जुलाई 30, 2020   20:40
नई शिक्षा नीति मशीन नहीं मनुष्य निर्माण की नीति है: भाजपा

उन्होंने नई शिक्षा नीति के लिए प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी और मानव संसाधन विकास मंत्री रमेश पोखरियाल ‘निशंक’ का आभार प्रकट करते हुए कहा कि नई शिक्षा नीति भारतीय संस्कृति, गौरवशाली इतिहास की नींव पर आधारित सर्व स्पर्शी और सर्व समावेशी है।

रांची। झारखंड भाजपा ने नई शिक्षा नीति का स्वागत करते हुए बृहस्पतिवार को कहा कि यह मशीन नहीं बल्कि मनुष्य निर्माण की नीति है। प्रदेश भाजपा अध्यक्ष और राज्यसभा सदस्य दीपक प्रकाश ने आज यहां ऑनलाइन संवाददाता सम्मेलन में नयी शिक्षा नीति का स्वागत करते हुए यह बात कही। उन्होंने नई शिक्षा नीति के लिए प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी और मानव संसाधन विकास मंत्री रमेश पोखरियाल ‘निशंक’ का आभार प्रकट करते हुए कहा कि नई शिक्षा नीति भारतीय संस्कृति, गौरवशाली इतिहास की नींव पर आधारित सर्व स्पर्शी और सर्व समावेशी है।

दीपक प्रकाश ने कहा कि यह नीति प्राचीनता और नवीनता का सम्मिश्रण है जिसमें मैकाले की शिक्षा पद्धति से छात्रों को छुटकारा दिलाने की कोशिश की गई है। उन्होंने कहा कि इसमें राष्ट्रीय और क्षेत्रीय दोनों ही भावनाओं का समावेश है। उन्होंने कहा, ‘‘नई नीति राष्ट्रीय एकात्मता को मजबूत करने वाली माटी की सुगंध से युक्त नीति है। इसमें विज्ञान के साथ कला और संगीत को जोड़ा गया है। अब विज्ञान और तकनीक से जुड़े विद्यार्थी भी कला की शिक्षा ग्रहण कर सकेंगे।’’ 

इसे भी पढ़ें: नई शिक्षा नीति पर बोले अखिलेश यादव, अखिलेश यादव का आरोप, RSS का एजेंडा लागू करना है इसका मकसद

प्रकाश ने कहा कि कक्षा पांच तक की शिक्षा को क्षेत्रीय भाषाओं में अनिवार्य करने से जनजाति एवं क्षेत्रीय भाषाओं के विकास सहित अन्य नए अवसर उपलब्ध होंगे। उन्होंने कहा कि देश में तीन दशक के बाद बहु प्रतीक्षित नई शिक्षा नीति का स्वप्न अब साकार हुआ है। उन्होंने कहा कि यह देश भर से प्राप्त दो लाख से अधिक सुझावों पर आधारित एक बेहतरीन शिक्षा नीति है।





Disclaimer:प्रभासाक्षी ने इस ख़बर को संपादित नहीं किया है। यह ख़बर पीटीआई-भाषा की फीड से प्रकाशित की गयी है।


नोट:कोरोना वायरस से भारत की लड़ाई में हम पूर्ण रूप से सहभागी हैं। इस कठिन समय में अपनी जिम्मेदारी का पूर्णतः पालन करते हुए हमारा हरसंभव प्रयास है कि तथ्यों पर आधारित खबरें ही प्रकाशित हों। हम स्व-अनुशासन में भी हैं और सरकार की ओर से जारी सभी नियमों का पालन भी हमारी पहली प्राथमिकता है।