साल 2014 में थी सत्ता विरोधी लहर, मोदी बोले- अब है सत्ता समर्थक लहर

By प्रभासाक्षी न्यूज नेटवर्क | Publish Date: May 13 2019 8:14AM
साल 2014 में थी सत्ता विरोधी लहर, मोदी बोले- अब है सत्ता समर्थक लहर
Image Source: Google

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने दावा किया कि वर्ष 2014 का चुनाव एंटी इन्कम्बेन्सी (सत्ताविरोधी लहर) का था, जबकि 2019 का मौजूदा चुनाव प्रो-इन्कम्बेन्सी (सत्तासमर्थक लहर) का है।

इंदौर। पिछले लोकसभा चुनावों और मौजूदा लोकसभा चुनावों के दौरान देश के मतदाताओं के मूड की तुलना करते हुए प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने रविवार को दावा किया कि इस बार सत्तारूढ़ राजग गठबंधन के समर्थन में लहर है। उन्होंने कहा कि वर्ष 2014 का चुनाव एंटी इन्कम्बेन्सी (सत्ताविरोधी लहर) का था, जबकि 2019 का मौजूदा चुनाव प्रो-इन्कम्बेन्सी (सत्तासमर्थक लहर) का है। वर्ष 2014 के चुनाव में भ्रष्टाचार, वंशवाद और नीतिगत लकवे के खिलाफ जनता का आक्रोश चरम पर था, जबकि 2019 के चुनाव में जनता का विश्वास चरम पर है।  

भाजपा को जिताए

इसे भी पढ़ें: मायावती का मोदी पर पलटवार, घृणित राजनीति करने का आरोप लगाया

मोदी ने कहा कि 2014 के चुनाव में देश ने मेरे और मेरे काम के बारे में बस सुना था। 2019 के इस चुनाव में देश मेरे काम को जानने लगा है। लिहाजा इस बार भारतीय जनता पार्टी नहीं, बल्कि खुद भारतीय जनता चुनाव लड़ रही है। प्रधानमंत्री ने कहा कि मेरी निष्ठा, नीयत और नीति का आकलन कम-ज्यादा हो सकता है। लेकिन मेरे इरादों में कोई भी खोट नहीं निकाल सकता। मोदी ने अपने राजनीतिक विरोधियों पर आक्रमण करते हुए कहा कि हमने अक्सर देश में सत्तारूढ़ दल को हटाने के लिये जनता को खड़े होते देखा है। अक्सर यह भी बोला जाता है कि देश का मतदाता शांत होता है। लेकिन इस बार मतदाता मुखर है और वह कश्मीर से कन्याकुमारी तक (एनडीए) सरकार को दोबारा चुनने के लिए खड़ा हो गया है। इस कारण कई नेताओं की नींद हराम हो गयी है और उन्होंने बयानबाजी के मामले में अपना संतुलन खो दिया है। 

इसे भी पढ़ें: प्रधानमंत्री मोदी ने चुनाव में नफरत का इस्तेमाल किया, हमने मोहब्बत का : राहुल गांधी



वर्ष 1984 के सिख विरोधी दंगों को लेकर इंडियन ओवरसीज कांग्रेस के प्रमुख सैम पित्रोदा के विवादास्पद बयान हुआ तो हुआ को लेकर कांग्रेस पर हमले जारी रखते हुए प्रधानमंत्री ने कहा कि यह कथन कांग्रेस का अहंकार दिखाता है। उन्होंने कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी के नजरिये पर सवाल खड़ा करते हुए कहा कि वंशवाद की सीढ़ी पर चढ़कर उन्हें (राहुल) पार्टी की कमान तो मिल सकती है, लेकिन दूरदृष्टि नहीं मिल सकती। प्रधानमंत्री ने अलवर में दलित महिला से सामूहिक बलात्कार पर कहा कि राजस्थान की कांग्रेस सरकार ने लोकसभा चुनाव के मद्देनजर इस मामले को दबाने की कोशिश की। मोदी ने बसपा सुप्रीमो मायावती पर निशाना साधते हुए कहा कि अगर वह इस घटना को लेकर इतनी ही चिंतित हैं तो उनकी पार्टी को राजस्थान की कांग्रेस नीत सरकार से समर्थन वापस ले लेना चाहिये। 

रहना है हर खबर से अपडेट तो तुरंत डाउनलोड करें प्रभासाक्षी एंड्रॉयड ऐप   


Related Story

Related Video