दो लोगों को हिरासत में लेने के बाद दलाई लामा की सुरक्षा और सख्त की गयी: जयराम ठाकुर

  •  प्रभासाक्षी न्यूज नेटवर्क
  •  अगस्त 25, 2020   09:29
दो लोगों को हिरासत में लेने के बाद दलाई लामा की सुरक्षा और सख्त की गयी: जयराम ठाकुर

चार्ली पेंग के खिलाफ प्रवर्तन निदेशालय ने धनशोधन रैकेट चलाने के संबंध में मामला दर्ज किया था। केंद्रीय प्रत्यक्ष कर बोर्ड (सीबीडीटी) ने उसे हिरासत में लिया था। वह कथित रूप से फर्जी भारतीय पासपोर्ट धारक था।

शिमला। हिमाचल प्रदेश के मुख्यमंत्री जयराम ठाकुर ने सोमवार को कहा कि चीनी नागरिक चार्ली पेंग के निर्देश पर तिब्बती धर्म गुरू दलाई लामा की गतिवधि की कथित रूप से ​रेकी करने वाले दो लोगों को हिरासत में लिये जाने के बाद उनकी सुरक्षा व्यवस्था और सख्त की जा रही है। चार्ली पेंग के खिलाफ प्रवर्तन निदेशालय ने धनशोधन रैकेट चलाने के संबंध में मामला दर्ज किया था। केंद्रीय प्रत्यक्ष कर बोर्ड (सीबीडीटी) ने उसे हिरासत में लिया था। वह कथित रूप से फर्जी भारतीय पासपोर्ट धारक था।

ठाकुर ने कहा कि चीनी महिला लान हू और सोनू बांगतू नामक एक अन्य व्यक्ति को हिमाचल प्रदेश पुलिस ने पेंग के साथ कथित संपर्क होने के आरोप में हिरासत में लिया है। उन्होंने कहा कि यह अभी स्पष्ट नहीं हो सका है कि बांगतू चीनी नागरिक है अथवा तिब्बती शरणार्थी है। लेकिन यह स्पष्ट हो चुका है कि दलााई लामा के आवागमन पर नजर रखने के लिये तथा सभी सूचना उसे मुहैया कराने के लिये चार्ली पेंग ने एस के ट्रेडर्स कंपनी के माध्यम से उनके खातों में पैसे भेजे हैं। 

इसे भी पढ़ें: भारत में जिनपिंग के जासूस पर बड़ा खुलासा, दलाई लामा की जासूसी कर रहा था चार्ली पेंग

उन्होंने बताया कि दोनों को हिरासत में ले लिया गया है। उन्होंने बताया कि गुप्तचर ब्यूरो एवं अन्य एजेंसियां दोनों से पूछताछ कर रही हैं। मुख्यमंत्री ने कहा कि उन्होंने प्रदेश पुलिस को दलाई लामा की सुरक्षा व्यवस्था और मजबूत करने का निर्देश दिया है तथा उन्हें धर्मशाला में और अधिक सतर्क और सावधान रहने का निर्देश दिया है, जहां धार्मिक गुरू का आवास स्थित है।





Disclaimer:प्रभासाक्षी ने इस ख़बर को संपादित नहीं किया है। यह ख़बर पीटीआई-भाषा की फीड से प्रकाशित की गयी है।


नोट:कोरोना वायरस से भारत की लड़ाई में हम पूर्ण रूप से सहभागी हैं। इस कठिन समय में अपनी जिम्मेदारी का पूर्णतः पालन करते हुए हमारा हरसंभव प्रयास है कि तथ्यों पर आधारित खबरें ही प्रकाशित हों। हम स्व-अनुशासन में भी हैं और सरकार की ओर से जारी सभी नियमों का पालन भी हमारी पहली प्राथमिकता है।