फ्री कश्मीर की तख्ती दिखाने वाली महिला के खिलाफ नहीं होगी कोई कार्रवाई

  •  प्रभासाक्षी न्यूज नेटवर्क
  •  जनवरी 23, 2020   10:05
फ्री कश्मीर की तख्ती दिखाने वाली महिला के खिलाफ नहीं होगी कोई कार्रवाई

महाराष्ट्र के गृहमंत्री अनिल देशमुख ने बुधवार को कहा कि पुलिस उस महिला के खिलाफ कार्रवाई नहीं करेगी जिसने यहां “फ्री कश्मीर” की तख्ती के साथ विरोध प्रदर्शन किया था। आपको बता दें कि जेएनयू हमले के खिलाफ मुंबई में हुए विरोध प्रदर्शन में भाग लेते हुए महक प्रभु नामक महिला ने “फ्री कश्मीर” की तख्ती दिखाई थी।

मुंबई। महाराष्ट्र के गृहमंत्री अनिल देशमुख ने बुधवार को कहा कि पुलिस उस महिला के खिलाफ कार्रवाई नहीं करेगी जिसने यहां “फ्री कश्मीर” (कश्मीर मुक्त करो) की तख्ती के साथ विरोध प्रदर्शन किया था। देशमुख ने कहा कि यदि महिला का इरादा घाटी को वर्तमान स्थिति से मुक्ति दिलाने का था तो ऐसा करना “भारत विरोधी” कार्य नहीं कहा जा सकता। जेएनयू हमले के खिलाफ यहां हुए विरोध प्रदर्शन में भाग लेते हुए महक प्रभु नामक महिला ने “फ्री कश्मीर” (कश्मीर मुक्त करो) की तख्ती दिखाई थी। 

इसे भी पढ़ें: JNU की घटना के लिए शाह और निशंक जिम्मेदार, कुलपति को हटाया जाए: कांग्रेस

इस घटना ने जनता का ध्यान खींचा था और पुलिस ने मामला भी दर्ज किया था। हालाँकि प्रभु ने इसके लिए माफी मांग ली थी लेकिन कोलाबा पुलिस ने उसके खिलाफ भारतीय दंड संहिता 153बी के तहत मामला दर्ज किया था। इसके बारे में पूछे जाने पर देशमुख ने कहा, “हमने उस महिला के व्हाट्स एप संदेश देखे थे। उनमें उसने कहा था कि जम्मू कश्मीर में कोई इंटरनेट, मोबाइल सेवा नहीं है और विपक्षी नेता वहां गिरफ्तार हैं। क्या वह इस स्थिति से आजादी चाहती थी? उसका यह भी इरादा हो सकता था।” 

इसे भी पढ़ें: पुलिस स्टेशन जाकर फ्री कश्मीर को पोस्टर लहराने वाली युवती ने दिया बयान

देशमुख ने कहा कि शुरुआत में गृह विभाग ने सोचा होगा कि महिला का इरादा “देश विरोधी” था। उन्होंने कहा, “लेकिन हम इसकी भी जांच कर रहे हैं कि उसका कोई और मकसद भी हो सकता है। अगर उसे लगता है कि कश्मीर को वर्तमान स्थिति से आजादी मिलनी चाहिए तो इसमें कोई बुराई नहीं है और यह राष्ट्र विरोधी कार्य नहीं है। अगर उसका इरादा राष्ट्र विरोधी नहीं है तो उसके खिलाफ कार्रवाई करने का कोई प्रश्न नहीं उठता।” 

इसे भी देखें: मुंबई में लड़की ने लहराया Free Kashmir लिखा हुआ पोस्टर, देशभर में आलोचना





Disclaimer:प्रभासाक्षी ने इस ख़बर को संपादित नहीं किया है। यह ख़बर पीटीआई-भाषा की फीड से प्रकाशित की गयी है।


नोट:कोरोना वायरस से भारत की लड़ाई में हम पूर्ण रूप से सहभागी हैं। इस कठिन समय में अपनी जिम्मेदारी का पूर्णतः पालन करते हुए हमारा हरसंभव प्रयास है कि तथ्यों पर आधारित खबरें ही प्रकाशित हों। हम स्व-अनुशासन में भी हैं और सरकार की ओर से जारी सभी नियमों का पालन भी हमारी पहली प्राथमिकता है।