कोरोना के खिलाफ रणनीति बनाते-बनाते खुद चपेट में आए मुख्यमंत्री और ये तमाम मंत्री

कोरोना के खिलाफ रणनीति बनाते-बनाते खुद चपेट में आए मुख्यमंत्री और ये तमाम मंत्री

देश में अभी तक कुल 13,36,861 व्यक्ति कोरोना संक्रमित पाए गए हैं। जबकि इस संक्रमण की वजह से 31,358 मरीजों की मौत हो गई है।

नयी दिल्ली। जैसे-जैसे कोरोना वायरस का संक्रमण फैलता जा रहा है ठीक उसी प्रकार आम आदमियों के साथ-साथ नेता भी इसकी चपेट में आते जा रहे है। देश में अभी तक कुल 13,36,861 व्यक्ति कोरोना संक्रमित पाए गए हैं। जबकि इस संक्रमण की वजह से 31,358 मरीजों की मौत हो गई है। हाल ही में इन संक्रमितों की संख्या में मध्य प्रदेश के मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान, मंत्री अरविंद भदौरिया, उत्तर प्रदेश के स्वास्थ्य मंत्री जय प्रताप सिंह, महाराष्ट्र सरकार में मंत्री अब्दुल सत्तार समेत कई नेताओं का नाम शामिल हो गया है। 

इसे भी पढ़ें: कोरोना खतरें के बीच चीन में खोले गए थियेटर! होगा कड़े नियमों का पालन 

शिवराज सिंह चौहान

मध्य प्रदेश के मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने कोरोना संक्रमण का टेस्ट कराया, जिसमें वह संक्रमित पाए गए हैं और उन्होंने खुद ट्वीट कर इसकी जानकारी दी है। इस बीच उन्होंने अपने तमाम साथियों से अपील की कि जो भी उनके संपर्क में आए हो वह अपना कोरोना टेस्ट करवा लें और जो करीबी लोग हैं वो क्वारंटाइन हो जाएं।

बता दें कि शिवराज सिंह चौहान लॉकडाउन की घोषणा के बाद से हर रोज शाम को कोरोना समीक्षा बैठक करते हैं लेकिन संक्रमित हो जाने के बाद अब वह वीडियो कॉन्फ्रेंसिंग के जरिए इस बैठक में शामिल हो सकते हैं। हालांकि इस बीच प्रदेश की जिम्मेदारी गृह मंत्री नरोत्तम मिश्रा, नगरीय विकास एवं प्रशासन मंत्री भूपेंद्र सिंह, स्वास्थ्य शिक्षा मंत्री विश्वास सारंग और स्वास्थ्य मंत्री डॉ. प्रभु राम चौधरी संभालेंगे। 

इसे भी पढ़ें: केवल आर्थिक चिंताओं के कारण लॉकडाउन हटाने के पक्ष में नहीं हैं उद्धव ठाकरे 

हाल ही में शिवराज सिंह चौहान ने कैबिनेट मंत्री अरविंद भदौरिया के साथ विशेष विमान में यात्रा की थी। फिलहाल अरविंद भदौरिया भोपाल के निजी अस्पताल में कोरोना का इलाज करवा रहे हैं।

अरविंद भदौरिया

मध्य प्रदेश की शिवराज सरकार में मंत्री अरविंद भदौरिया की कोरोना रिपोर्ट पॉजिटिव आई है। जिसके बाद वो देर रात ही भोपाल के निजी अस्पताल में भर्ती हो गए। मिली जानकारी के मुताबिक, अरविंद भदौरिया में कोरोना के लक्षण नहीं दिखाई दे रहे थे इसके बावजूद उनकी कोरोना रिपोर्ट पॉजिटिव आई है।

हाल ही में अरविंद भदौरिया मध्य प्रदेश के राज्यपाल लालजी टंडन के अंतिम संस्कार में शामिल हुए थे। इसके अतिरिक्त उन्होंने शिवराज सिंह चौहान के साथ विशेष विमान में यात्रा भी की थी और अब शिवराज को भी कोरोना हो गया है। ऐसे में मंत्री भदौरिया के संपर्क में आए लोगों को स्वत: क्वारंटाइन हो जाना चाहिए और अपना टेस्ट करवाना चाहिए। 

इसे भी पढ़ें: मुख्यमंत्री के कोरोना संक्रमित होने के बाद अब गृहमंत्री सहित चार मंत्री संभालेंगे मोर्चा 

राज्य में भदौरिया से पहले कई विधायक और नेता कोरोना संक्रमित पाए जा चुके हैं। उनमें धार से विधायक नीना वर्मा, पूर्व जावद से विधायक ओमप्रकाश सकलेचा, जबलपुर से लखन घनघोरिया, सिरमौर से विधायक दिव्यराज सिंह, कांग्रेस विधायक कुणाल चौधरी, केंद्रीय मंत्री विक्रम वर्मा शामिल हैं। हालांकि कुछ नेता पूरी तरह से स्वस्थ हो गए तो कुछ का अभी भी इलाज चल रहा है।

जय प्रताप सिंह

उत्तर प्रदेश की योगी सरकार में स्वास्थ्य मंत्री जय प्रताप सिंह भी कोरोना की चपेट में आ गए हैं। बता दें कि जय प्रताप सिंह की शुक्रवार को कोरोना रिपोर्ट पॉजिटिव आई है और वह लगातार मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ के साथ बैठकों में शामिल हो रहे थे। बता दें कि स्वास्थ्य मंत्री सिंह की तबीयत गुरुवार को खराब हो गई थी जिसके बाद उनका कोरोना टेस्ट कराया गया था। 

इसे भी पढ़ें: UP सरकार से बोलीं मायावती, कोरोना जांच और कोविड केंद्रों की साफ-सफाई पर तुरंत दे ध्यान 

स्वास्थ्य मंत्री को लखनऊ स्थित आवास में क्वारंटीन किया गया है। इस दौरान उन्होंने मीडियाकर्मियों से भी बातचीत की और कहा कि घबराने की आवश्यकता नहीं है, मैं जल्द ही ठीक हो जाऊंगा। इनके अलावा उन्नाव के पूर्व सांसद में भी कोरोना संक्रमण की पुष्टि हुई है।

अब्‍दुल सत्‍तार

महाराष्ट्र में कोरोना संक्रमितों की संख्या थमने का नाम नहीं ले रही है। ऐसे में कोरोना ने बिना भेदभाव किए हर किसी को अपनी जद में ले लिया है। बता दें कि महाराष्ट्र की उद्धव ठाकरे सरकार में मंत्री अब्दुल सत्तार भी कोरोना पॉजिटिव पाए गए हैं। सिल्लोड से विधायक सत्तार ने खुद इस बात की जानकारी दी। उन्होंने फेसबुक में लिखा कि वह मुंबई स्थित अपने आवास में होम क्लारंटीन हैं। साथ ही उन्होंने अपील की कि मेरे संपर्क में आए लोग अपना कोरोना टेस्ट करवा लें।

महाराष्ट्र सरकार में अब्दुल सत्तार कोई पहले मंत्री नहीं हैं जिन्हें कोरोना हुआ हो। इससे पहले जितेंद्र अव्हाड, अशोक चव्हाण, धनंजय मुंडे और असलम शेख भी कोरोना की चपेट में आ चुके हैं। फिलहाल असलम शेख और अब्दुल सत्तार को छोड़कर बाकी मंत्री स्वस्थ हो चुके हैं। 

इसे भी पढ़ें: अमेरिका के स्टोर में नाचने का वीडियो सामने आने के बाद महिला को हिरासत में लिया गया 

तमिलनाडु सरकार में मंत्री नीलोफर कफील, के पी अंबलागन और पी थंगामणि में कोरोना संक्रमण की पुष्टि हुई थी। मिली जानकारी के मुताबिक नीलोफर कफील और पी थंगामणि का अभी इलाज चल रहा है। जबकि पी अंबलागन पूरी तरह से स्वस्थ हो चुके हैं।

क्वारंटीन हुए थे ये मुख्यमंत्री

गुजरात के मुख्यमंत्री विजय रुपाणी होम क्वारंटीन में चले गए थे। दरअसल, विजय रुपाणी ने कांग्रेस विधायक इमरान खेड़ावाला के साथ बैठक की थी जो बाद में कोरोना पॉजिटिव पाए थे। जिसके बाद एहतियात के तौर पर विजय रुपाणी ने खुद को हो क्वारंटीन कर लिया था। यह बात अप्रैल की मध्य की है। 

इसे भी पढ़ें: राजस्थान में कोरोना से छह और मौत, अब तक 608 मरीजों ने तोड़ा दम, संक्रमण के 557 नए मामले दर्ज 

विजय रुपाणी के अलावा अगर हम ऐसे मुख्यमंत्री की बात करें जिन्होंने खुद को क्वारंटीन किया हो तो उनमें नाम हिमाचल प्रदेश के मुख्यमंत्री जयराम ठाकुर का भी आता है। बता दें कि मुख्यमंत्री कार्यालय के उप सचिव का कोरोना टेस्ट पॉजिटिव आया था जिसके बाद सचिवालय में तमाम कार्यक्रम को स्थगित कर दिया था और मुख्यमंत्री जयराम ठाकुर समेत उनके पूरे परिवार का कोरोना टेस्ट हुआ।

जयराम ठाकुर और उनके परिवार की कोरोना रिपोर्ट देर रात जिनमें संक्रमण की पुष्टि नहीं हुई थी। इसके बावजूद मुख्यमंत्री ने खुद को छह दिन के लिए होम क्वारंटीन कर लिया। 

इसे भी पढ़ें: प्रियंका गांधी ने योगी आदित्यनाथ को पत्र लिखकर सुझाए कई उपाय, कहा- UP में कोरोना की स्थिति गंभीर 

सत्येंद्र जैन

दिल्ली के स्वास्थ्य मंत्री सत्येंद्र जैन की तबीयत अचानक से बिगड़ने लगी थी जिसके बाद उनका टेस्ट कराया गया और उनकी रिपोर्ट पॉजिटिव आई। फिलहाल वह अब पूरी तरह से ठीक हो चुके हैं और काम पर भी वापस लौट आए हैं।





नोट:कोरोना वायरस से भारत की लड़ाई में हम पूर्ण रूप से सहभागी हैं। इस कठिन समय में अपनी जिम्मेदारी का पूर्णतः पालन करते हुए हमारा हरसंभव प्रयास है कि तथ्यों पर आधारित खबरें ही प्रकाशित हों। हम स्व-अनुशासन में भी हैं और सरकार की ओर से जारी सभी नियमों का पालन भी हमारी पहली प्राथमिकता है।