अपने आप गायब हो रही हैं घर से चीजें, अदृश्य शक्ति से मुक्ति दिलाने के लिए महिला ने गुहार पुलिस से लगाई

  •  प्रभासाक्षी न्यूज नेटवर्क
  •  दिसंबर 6, 2021   11:21
अपने आप गायब हो रही हैं घर से चीजें, अदृश्य शक्ति से मुक्ति दिलाने के लिए महिला ने गुहार पुलिस से लगाई

प्रदेश की एक सरकारी महिला इंजीनियर ने बैतूल जिले की कोतवाली पुलिस थाने में आवेदन देकर अदृश्य शक्ति से अपने कपड़े, पैसे एवं खाना चुराने के साथ-साथ जेवरातों का वजन कम करने से मुक्ति दिलाने की गुहार लगाई है। इसे लेकर पुलिस पशोपेश में है।

बैतूल (मध्य प्रदेश)। प्रदेश की एक सरकारी महिला इंजीनियर ने बैतूल जिले की कोतवाली पुलिस थाने में आवेदन देकर अदृश्य शक्ति से अपने कपड़े, पैसे एवं खाना चुराने के साथ-साथ जेवरातों का वजन कम करने से मुक्ति दिलाने की गुहार लगाई है। इसे लेकर पुलिस पशोपेश में है। एक अधिकारी ने रविवार को यह जानकारी दी। उक्त शिकायत प्रधानमंत्री ग्रामीण सड़क परियोजना बैतूल में कार्यरत महिला इंजीनियर श्रुति झाड़े ने की है। कोतवाली पुलिस थाना प्रभारी रत्नाकर हिंगवे ने बताया, ‘‘इस महिला इंजीनियर ने शुक्रवार को कोतवाली पुलिस थाना पहुंचकर लिखित आवेदन दिया है।

आवेदन में दावा किया गया है कि कोई अदृश्य शक्ति जिसके पैर दिखाई देते हैं और कभी सफेद तो कभी काले लिबास में उसके घर में आकर उसके द्वारा बनाया गया खाना खा लेती है। यही नहीं इस अदृश्य शक्ति ने उसके सोने के जेवरों का वजन भी घटा दिया है। साथ ही घर में रखे कपड़ों और रुपयों पर भी हाथ साफ कर रही है।’’ उन्होंने कहा कि शहर के टिकारी क्षेत्र में रहने वाली इस महिला के मुताबिक वह बीते चार-पांच दिनों से भयभीत हैं। हिंगवे ने बताया कि इस महिला ने पुलिस से मांग है कि कोई उपाय कर इससे मुक्ति दिलवाएं।

शिकायतकर्ता ने शनिवार को पत्रकारों से बात करते हुए भी यह बात कही है। इस महिला की शिकायत पर हिंगवे ने कहा कि कई बार दिमाग में जो चल रहा होता है, वही वहम के कारण सच में घटित होना महसूस होने लगता है, जबकि ऐसा वास्तव में कुछ नहीं होता है। उन्हें भी कुछ वहम हो गया होगा। समझाइश देकर उनका वहम और भ्रम उनके मन से निकालने का प्रयास किया जाएगा।





Disclaimer:प्रभासाक्षी ने इस ख़बर को संपादित नहीं किया है। यह ख़बर पीटीआई-भाषा की फीड से प्रकाशित की गयी है।


नोट:कोरोना वायरस से भारत की लड़ाई में हम पूर्ण रूप से सहभागी हैं। इस कठिन समय में अपनी जिम्मेदारी का पूर्णतः पालन करते हुए हमारा हरसंभव प्रयास है कि तथ्यों पर आधारित खबरें ही प्रकाशित हों। हम स्व-अनुशासन में भी हैं और सरकार की ओर से जारी सभी नियमों का पालन भी हमारी पहली प्राथमिकता है।