उत्तर प्रदेश में तीसरे मोर्चे का गठन, ओवैसी ने दिया दो मुख्यमंत्री और तीन उपमुख्यमंत्री का फॉर्मूला

उत्तर प्रदेश में तीसरे मोर्चे का गठन, ओवैसी ने दिया दो मुख्यमंत्री और तीन उपमुख्यमंत्री का फॉर्मूला

इन सबके बीच असदुद्दीन ओवैसी के नेतृत्व में अब तीसरे मोर्चे का भी गठन कर लिया गया है। एआईएमआईएम प्रमुख और हैदराबाद से सांसद असदुद्दीन ओवैसी ने उत्तर प्रदेश में बाबू सिंह कुशवाहा और भारत मुक्ति मोर्चा के साथ गठबंधन की घोषणा की है।

उत्तर प्रदेश में विधानसभा चुनाव के ऐलान के साथ ही सभी राजनीतिक दलों ने अपना दमखम लगाना शुरू कर दिया है। इन सब के बीच अब तीसरे मोर्चे का भी ऐलान हो गया है। वैसे तो उत्तर प्रदेश में मुख्य मुकाबला समाजवादी पार्टी और सत्तारूढ़ भाजपा के बीच मानी जा रही है। बहुजन समाज पार्टी और कांग्रेस भी अपना दम लगा रही हैं। इन सबके बीच असदुद्दीन ओवैसी के नेतृत्व में अब तीसरे मोर्चे का भी गठन कर लिया गया है। एआईएमआईएम प्रमुख और हैदराबाद से सांसद असदुद्दीन ओवैसी ने उत्तर प्रदेश में बाबू सिंह कुशवाहा और भारत मुक्ति मोर्चा के साथ गठबंधन की घोषणा की है।

गठबंधन के ऐलान के साथ ही ओवैसी ने मुख्यमंत्री और उपमुख्यमंत्री को लेकर एक फॉर्मूला दिया है। ओवैसी ने दावा किया कि अगर उत्तर प्रदेश में सरकार बनती है तो दो मुख्यमंत्री होंगे, एक ओबीसी समुदाय से और दूसरा दलित समुदाय से। इसके अलावा तीन उप मुख्यमंत्री होंगे जिसमें मुस्लिम समुदाय भी शामिल होगा। आपको बता दें कि इससे पहले ओवैसी ने ओमप्रकाश राजभर के साथ गठबंधन किया था। हालांकि बाद में ओमप्रकाश राजभर ने समाजवादी पार्टी से गठबंधन कर लिया। 

इसे भी पढ़ें: जानिए कौन है AIMIM के एकमात्र हिन्दू उम्मीदवार ? 100 सीटों पर चुनाव लड़ेगी ओवैसी की पार्टी

इससे पहले असदुद्दीन ओवैसी की ओर से लगातार दावा किया जा रहा है कि उनकी पार्टी उत्तर प्रदेश में 100 सीटों पर चुनाव लड़ने जा रही है। ओवैसी ने कई सीटों के लिए उम्मीदवारों की ऐलान भी कर दिए हैं। ओवैसी की पार्टी की ओर से मुस्लिम बहुल विधानसभा क्षेत्रों में अपने उम्मीदवार उतारे जा रहे हैं। हालांकि ओवैसी की सूची में हिंदू उम्मीदवारों के भी नाम है। इन सबके बीच उत्तर प्रदेश में विपक्ष ओवैसी को भाजपा की बी टीम लगातार बता रहा है।





नोट:कोरोना वायरस से भारत की लड़ाई में हम पूर्ण रूप से सहभागी हैं। इस कठिन समय में अपनी जिम्मेदारी का पूर्णतः पालन करते हुए हमारा हरसंभव प्रयास है कि तथ्यों पर आधारित खबरें ही प्रकाशित हों। हम स्व-अनुशासन में भी हैं और सरकार की ओर से जारी सभी नियमों का पालन भी हमारी पहली प्राथमिकता है।