कोरोना वायरस संक्रमण से राजस्थान में तीन और मौत, 146 नये मामले सामने आए

  •  प्रभासाक्षी न्यूज नेटवर्क
  •  अप्रैल 30, 2020   22:45
कोरोना वायरस संक्रमण से राजस्थान में तीन और मौत, 146 नये मामले सामने आए

राज्य में कोरोना वायरस संक्रमण से जुड़ी मौतों की संख्या बढ़कर 58 हो गयी है। अकेले जयपुर में 32 लोगों की मौत हुई है। अधिकारियों का कहना है कि ज्यादातर मामलों में रोगी किसी न किसी अन्य गंभीर बीमारी से भी पीड़ित थे।

जयपुर। राजस्थान में बृहस्पतिवार को कोरोना वायरस संक्रमण से तीन और लोगों की मौत हो गयी। राज्य में इस घातक वायरस से मरने वालों की संख्या 58 हो गयी है। इस बीच 146 नये मामले आने से राज्य में कोरोना वायरस संक्रमितों की संख्या बढकर 2584 हो गयी है। राज्य के अतिरिक्त मुख्य सचिव (स्वास्थ्य) रोहित कुमार सिंह ने बताया कि बृहस्पतिवार को जयपुर में दो और निंबाहेड़ा में एक संक्रमित व्यक्ति की मौत हो गयी। जयपुर में 67 वर्ष व 54 साल के दो व्यक्तियों की अलग अलग अस्पताल में मौत हो गयी। निंबाहेड़ा का 43 साल का संक्रमित उदयपुर के एमबीजी अस्पताल में भर्ती था जहां उनकी मौत हो गयी।

इसे भी पढ़ें: कोरोना वायरस संक्रमण से राजस्थान में तीन और मौत, 118 नये मामले सामने आए

राज्य में कोरोना वायरस संक्रमण से जुड़ी मौतों की संख्या बढ़कर 58 हो गयी है। अकेले जयपुर में 32 लोगों की मौत हुई है। अधिकारियों का कहना है कि ज्यादातर मामलों में रोगी किसी न किसी अन्य गंभीर बीमारी से भी पीड़ित थे। वहीं रात नौ बजे तक राज्य में 146 नये मामले आए जिनमें जयपुर में 29, जोधपुर में 97, कोटा में पांच, अजमेर में चार, चित्तौड़गढ़ में तीन तथा अलवर, बांसवाड़ा व टोंक में दो दो नये मामले भी शामिल हैं।

इसे भी पढ़ें: क्या एमबीए आपके लिए बहुत महंगा है? बजट अनुकूल एमबीए के लिए राजस्थान विश्वविद्यालय के बारे में सोचें

राजस्थान में कोरोना वायरस संक्रमण के कुल मामलों में दो इतालवी नागरिकों के साथ साथ 61 वे लोग भी हैं जिन्हें ईरान से लाकर जोधपुर व जैसलमेर में सेना के आरोग्य केंद्रों में ठहराया गया है। राज्यभर में 22 मार्च से लॉकडाउन है और अनेक थाना क्षेत्रों में कर्फ्यू भी लगा हुआ है।





Disclaimer:प्रभासाक्षी ने इस ख़बर को संपादित नहीं किया है। यह ख़बर पीटीआई-भाषा की फीड से प्रकाशित की गयी है।


नोट:कोरोना वायरस से भारत की लड़ाई में हम पूर्ण रूप से सहभागी हैं। इस कठिन समय में अपनी जिम्मेदारी का पूर्णतः पालन करते हुए हमारा हरसंभव प्रयास है कि तथ्यों पर आधारित खबरें ही प्रकाशित हों। हम स्व-अनुशासन में भी हैं और सरकार की ओर से जारी सभी नियमों का पालन भी हमारी पहली प्राथमिकता है।