पुडुचेरी में कोरोना से तीन महिलाओं की मौत, 139 नए मामले

  •  प्रभासाक्षी न्यूज नेटवर्क
  •  जुलाई 25, 2020   15:12
पुडुचेरी में कोरोना से तीन महिलाओं की मौत, 139 नए मामले

स्वास्थ्य विभाग अब तक 34,305 नमूनों की जांच कर चुका है जिनमें से 31,142 में संक्रमण नहीं मिला। उन्होंने कहा कि पुडुचेरी में संक्रमण की दर 17.9 प्रतिशत है जबकि मृत्युदर 1.4 प्रतिशत।

पुडुचेरी। पुडुचेरी में कोरोना वायरस से संक्रमित तीन बुजुर्ग महिलाओं की मौत हो गई जबकि राज्य में शनिवार को 139 नए मामले सामने आने के बाद कुल संक्रमितों की संख्या बढ़कर 2654 हो गई। केंद्र शासित प्रदेश में कोविड-19 के 1055 मरीजों का इलाज चल रहा है जबकि 1561 मरीजों को ठीक होने के बाद अस्पताल से छुट्टी दी जा चुकी है। स्वास्थ्य मंत्री एम कृष्ण राव ने संवाददाताओं को बताया कि जिन तीन महिलाओं की मौत हुई उन सभी की उम्र 70 वर्ष से ज्यादा थी। इसके साथ ही केंद्र शासित प्रदेश में महामारी के कारण मरने वालों का आंकड़ा बढ़कर 38 हो गया है।

स्वास्थ्य विभाग ने कहा कि 775 नमूनों की जांच में शनिवार को संक्रमण के 139 नए मामले सामने आए। इनमें से 113 को यहां सरकारी अस्पताल में भर्ती कराया गया है। तीन लोगों को कराईकल के सरकारी अस्पताल में और 23 मरीजों को यनम में भर्ती कराया गया है। राव ने कहा कि बीते 24 घंटे के दौरान 78 मरीजों को ठीक होने के बाद अस्पताल से छुट्टी दे दी गई। इनमें से 65 मरीज पुडुचेरी से हैं जबकि 13 मरीजों को कराईकल में अस्पताल से छुट्टी दी गई। 

इसे भी पढ़ें: कोरोना के खिलाफ रणनीति बनाते-बनाते खुद चपेट में आए मुख्यमंत्री और ये तमाम मंत्री

स्वास्थ्य विभाग अब तक 34,305 नमूनों की जांच कर चुका है जिनमें से 31,142 में संक्रमण नहीं मिला। उन्होंने कहा कि पुडुचेरी में संक्रमण की दर 17.9 प्रतिशत है जबकि मृत्युदर 1.4 प्रतिशत। मंत्री ने आशंका जताई कि जेआईपीएमईआर समेत स्वास्थ्य प्राधिकारियों द्वारा किये गए आकलन के मुताबिक पुडुचेरी में अगले 35 दिनों में कम से कम 10 हजार और मामले होंगे। उन्होंने कहा कि अस्पताल किसी भी आपात स्थिति से निपटने के लिये पूरी तरह तैयार हैं।





Disclaimer:प्रभासाक्षी ने इस ख़बर को संपादित नहीं किया है। यह ख़बर पीटीआई-भाषा की फीड से प्रकाशित की गयी है।


नोट:कोरोना वायरस से भारत की लड़ाई में हम पूर्ण रूप से सहभागी हैं। इस कठिन समय में अपनी जिम्मेदारी का पूर्णतः पालन करते हुए हमारा हरसंभव प्रयास है कि तथ्यों पर आधारित खबरें ही प्रकाशित हों। हम स्व-अनुशासन में भी हैं और सरकार की ओर से जारी सभी नियमों का पालन भी हमारी पहली प्राथमिकता है।