कोलकाता में टीएमसी नेता मदन मित्रा का हुआ एक्सीडेंट, घुटने में लगी चोट

कोलकाता में टीएमसी नेता मदन मित्रा का हुआ एक्सीडेंट, घुटने में लगी चोट
प्रतिरूप फोटो

कोलकाता में टीएमसी नेता मदन मित्रा शाम को एक कार्यक्रम में शामिल होने जा रहे थे, तभी बीटी रोड पर एक लॉरी ने उनकी बाइक को टक्कर मार दी, जिससे उनका एक्सीडेंट हो गया। हालांकि वो ठीक हैं। हाल ही में टीएमसी नेता मदन मित्रा विवादों में आए थे। उनका एक वीडियो भी वायरल हो रहा है।

कोलकाता। पश्चिम बंगाल की राजधानी कोलकाता में तृणमूल कांग्रेस (टीएमसी) नेता मदन मित्रा को शुक्रवार की शाम एक्सीडेंट हो गया। जिसमें वो बाल-बाल बच गए। हालांकि उन्हें मामूली चोटें आईं हैं। प्राप्त जानकारी के मुताबिक कोलकाता में टीएमसी नेता मदन मित्रा शाम को एक कार्यक्रम में शामिल होने जा रहे थे, तभी बीटी रोड पर एक लॉरी ने उनकी बाइक को टक्कर मार दी, जिससे उनका एक्सीडेंट हो गया। हालांकि वो ठीक हैं।

इसे भी पढ़ें: पश्चिम बंगाल में कोरोना वायरस संक्रमण के 3,608 नए मामले, 36 और मरीजों की मौत 

मदन मित्रा का वीडियो हुआ था

वायरल टीएमसी नेता मदन मित्रा का एक वीडियो वायरल हो रहा है, जिसमें वो कमल को फाड़ते हुए दिखाई दे रहे है। हालांकि प्रभासाक्षी वीडियो की पुष्टि नहीं करता है। समाचार एजेंसी एएनआई से बातचीत में उन्होंने कहा कि हिंदू के रूप में मैंने कहीं नहीं सुना कि पूजा करते वक्त केवल कमल ही चढ़ाया जाता है। टीएमसी नेता ने कहा कि फूल चाहे कमल हो या फिर गुलाब, वह बगीचे की संपत्ति है। उन पर हमारा कोई अधिकार नहीं है... अगर मैंने (एक कार्यक्रम में) कमल की पंखुड़ियां फाड़कर हिंदू समुदाय को धोखा दिया है तब तो उन्होंने (भाजपा) मस्जिद में तोड़फोड़ की, दंगे करवाए लेकिन उनके खिलाफ कोई मामला नहीं है।

इसे भी पढ़ें: गणतंत्र दिवस पर संविधान की संघीय विशेषता की रक्षा का संकल्प लें: ममता बनर्जी

टीएमसी नेता ने कहा कि मेरा मतलब यह था कि एक हिंदू के रूप में मैंने कहीं नहीं सुना कि पूजा करते वक्त सिर्फ कमल ही चढ़ाया जाना चाहिए... क्या मैं केवल कमल का उपयोग करके पूजा करने के लिए बाध्य हूं ? इसी बीच उन्होंने कहा कि सरस्वती पूजा आगे है और मैं अन्य फूल चढ़ाऊंगा। दरअसल, उन्होंने कमल के फूल को भाजपा का प्रतीक बताया था।





नोट:कोरोना वायरस से भारत की लड़ाई में हम पूर्ण रूप से सहभागी हैं। इस कठिन समय में अपनी जिम्मेदारी का पूर्णतः पालन करते हुए हमारा हरसंभव प्रयास है कि तथ्यों पर आधारित खबरें ही प्रकाशित हों। हम स्व-अनुशासन में भी हैं और सरकार की ओर से जारी सभी नियमों का पालन भी हमारी पहली प्राथमिकता है।