हाईवे पर कोई नाम लेकर पुकारे तो हो जाएं सावधान नहीं तो हो जाएगी परेशानी

हाईवे पर कोई नाम लेकर पुकारे तो हो जाएं सावधान नहीं तो हो जाएगी परेशानी

डीसीपी राजेश कुमार सिंह के मुताबिक ये बदमाश पहले आपकी कार का पीछा करते है फिर ऐम परिवाहन ऐप के जरिए वह आपके कार के नंबर को ऐप में डालकर कार के मालिक की सारी डिटेल निकाल लेते है जिसमें नाम के साथ-साथ घर का पता भी होता है।

दिल्ली-एनसीआर में हाइवे और एक्सप्रेसवे पर यात्रियों से लूटपाट करने का अब चोरों ने एक नया तरीका ढूंढ निकाला है जिसको लेकर अब ग्रेटर नोएडा के पुलिस ने एडवाइजरी जारी कर दी है। पुलिस के मुताबिक अब ये चोर हाइवे-एक्सप्रेसवे में आपकी कार के पीछे एक अन्य कार में सवार बदमाश होते है और एम परिवहन मोबाइल ऐप की मदद से आपके कार के नंबर से लेकर कार की मालिक का नाम तक पता कर लेते है। ये सारी जानकारियां हासिल करने के बाद ये बदमाश आपका नाम ऐसे पुकारेंगे जैसे ये आपके दोस्ते या रिश्तेदार हो। बदमाश यह दिखाने की कोशिश करते है कि वह आपको बहुत अच्छे से जानते है और आपके जानकार है। इसके बाद वह आपकी कार को साइड में रूकवाकर बड़ी आसानी से लूटपाट को अंजाम देते है। इसको लेकर ग्रेनो पुलिस ने लोगों को सर्तक रहने की अपील की है। 

इसे भी पढ़ें: राम मंदिर की नींव के 200 फीट नीचे गाड़ा जाएगा टाइम कैप्सूल, जानिए इसके पीछे की मुख्य वजह

कई शहरों में हो चुका है ऐसा

एक्सल और बावरिया गैंग नाम से जाने वाले इन बदमाशों ने दिल्ली-एनसीआर में कई बार लूटपाट को अंजाम दिया है। बता दें कि पुलिस की एडवाइजरी के बाद से ही अब हाइवे पर नाम पुकारकर अपने को जान-पहचान का बताकर लूटने वाले बदमाश से लोग काफी सक्रीय हो गए है। हालांकि, ग्रेटर नोएडा में अभी तक ऐसी लूटपाट की खबरें सामने नही आई है लेकिन पुलिस के मुताबिक आसपास के शहरों के एक्सप्रेसवे पर ऐसी वारदातें हो चुकी है। इसी को देखते हुए ग्रेनो पुलिस ने लोगों को ऐसे बदमाशों से सर्तक रहने के लिए एक एडवाइजरी जारी कर दी है। 

ऐम परिवहन ऐप से मिलती है कार के मालिक की जानकारी

डीसीपी राजेश कुमार सिंह के मुताबिक ये बदमाश पहले आपकी कार का पीछा करते है फिर ऐम परिवाहन ऐप के जरिए वह आपके कार के नंबर को ऐप में डालकर कार के मालिक की सारी डिटेल निकाल लेते है जिसमें नाम के साथ-साथ घर का पता भी होता है। उसके बाद ये बदमाश पीछा कर रहे कार के मालिक का नाम ऐसे पुकारते है जैसे वह आपका करीबी हो या कोई दोस्त हो। कार सवार अपना नाम सुनने के बाद अपनी कार को साइड में रोक लेता है बस ये सोचकर की कोई जान-पहचान का है। बस इसके बाद बदमाश लूटपाट को अंजाम देते है। पुलिस ने ये साफ लोगों से अपील की है कि वह किसी के कहने पर हाइवे या एक्सेप्रेसवे पर अपनी कार को न रोकें।   





नोट:कोरोना वायरस से भारत की लड़ाई में हम पूर्ण रूप से सहभागी हैं। इस कठिन समय में अपनी जिम्मेदारी का पूर्णतः पालन करते हुए हमारा हरसंभव प्रयास है कि तथ्यों पर आधारित खबरें ही प्रकाशित हों। हम स्व-अनुशासन में भी हैं और सरकार की ओर से जारी सभी नियमों का पालन भी हमारी पहली प्राथमिकता है।